पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 3 मई 2016

291...ये रिश्ते ,ये जिंदगी ........

जय मां हाटेशवरी...

अब आनंद का ये सफर...
अपने 300 अंक पूरे करने ही  वाला है....
डर हमे  भी लगा था  फासला देख कर,
पर हम बढ़ते गये रास्ता देख कर,
खुद ब खुद हमारे  नजदीक आती गई,
हमारी  मंजिल हमारा  हौंसला देख कर |
अब पेश है...
आज की चयनित कड़ियां...

ये रिश्ते ,ये जिंदगी ........
s320/bl
हर रिश्ते की
अपनी सीमा है
और अपनी ही गरिमा भी
तब भी  ....
कैसी तो चाहतें
जन्म लेती हैं
और
तोड़ती भी है दम
गीत "हो चुकी अब बन्दगी
s400/images%2B%25285%2529
गुन-गुनायेगा कड़ी, जब कोई मेरे गीत की,
फिर कोई गुलशन खिलेगा, जी उठेगी जिन्दगी।
बाँध लो बिस्तर जहाँ से, हो चुकी अब बन्दगी।।
हर किसी की जिन्दगी है, बस अधूरी जिन्दगी।
बाँध लो बिस्तर जहाँ से, हो चुकी अब बन्दगी।।
 कैसी ये तक़दीर...
छोटी-छोटी ऊँगलियों में
चुभती है हुनर की पीर
बेपरवाह दुनिया में
सब ग़रीब सब अमीर
आख़िर हारी आज़ादी
बँध गई मन में ज़ंजीर

एक मजदूर होने का दर्द
सर वो जब लगातार ओवर टाइम्स करते रहने में भूख लगता है और नींद आने लगता है तो लिक्विड अमोनिया को रुई के फाहे में डूबा कर उसको सूंघ लेते है तो भूख और नींद
दोनों थोड़ी देर के लिए खत्म हो जाती है।
अरे यार तुम पागल हो क्या अरे वो केमिकल है नुकसान करता है तुम कैसे आदमी हो जो ये सब करते हो।
डरते डरते उसने कहा कि सर आप बोले थे कि गुस्सा नही करेंगे!
मुझे एक पल के लिए लगा कि इस बन्दे को कोई बड़ी परेशानी जरूर है तभी ये ऐसा काम कर रहा है। मुझे इसकी बात सुननी चाहिए।

स्व॰ सत्यजित रे जी की ९५ वीं जयंती
s400/sr3
फ़िल्मों में मिली सफलता से राय का पारिवारिक जीवन में अधिक परिवर्तन नहीं आया। वे अपनी माँ और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ ही एक किराए के मकान में रहते
रहे। १९६० के दशक में राय ने जापान की यात्रा की और वहाँ जाने-माने फिल्म निर्देशक अकीरा कुरोसावा से मिले। भारत में भी वे अक्सर शहर के भागम-भाग वाले माहौल
से बचने के लिए दार्जीलिंग या पुरी जैसी जगहों पर जाकर एकान्त में कथानक पूरे करते थे।
राय की कृतियों को मानवता और समष्टि से ओत-प्रोत कहा गया है। इनमें बाहरी सरलता के पीछे अक्सर गहरी जटिलता छिपी होती है। इनकी कृतियों को अन्यान्य शब्दों में
सराहा गया है। अकिरा कुरोसावा ने कहा, “राय का सिनेमा न देखना इस जगत में सूर्य या चन्द्रमा को देखे बिना रहने के समान है।” आलोचकों ने इनकी कृतियों को अन्य
कई कलाकारों से तुलना की है — आंतोन चेखव, ज़ाँ रन्वार, वित्तोरियो दे सिका, हावर्ड हॉक्स, मोत्सार्ट, यहाँ तक कि शेक्सपियर के समतुल्य पाया गया है।



आज के पांच लिंक पूरे हुए...
धन्यवाद।

4 टिप्‍पणियां:

  1. 300 अंक आने वाला है । इंतजार है । 3000 भी होगा । शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...