पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 25 मार्च 2016

252...रंगों ने खूब मस्ती घोली है

सादर अभिवादन
होली तो आज हो ली
पर रचनाएँ जारी रहेंगी
एक सप्ताह तक...
भाई कुलदीप जी के कम्पयूटर को
बुखार आ गया है...डॉक्टर इलाज कर रहा है..

आज की रंगीन प्रस्तुति...

उमर हिरनिया हो गई, देह-इन्द्र-दरबार
मौसम संग मोहित हुए, दर्पण-फूल-बहार

दर्पण बोला लाड़ से, सुन गोरी, दिलचोर
अंगिया न सह पाएगी, अब यौवन का जोर


होली में सब प्यार से, भून रहे होलाक।
होली की ज्वाला जली, हुई होलिका खाक।।

जग में सज्जनवृन्द की, होती है मनुहार।
निश्छल लोगों को सभी, करते प्यार अपार।।

होली रे होली ...........
हुड़दंग मचाए,
बस्ती में सारे ,
रोके न रुके ,
अरे आज हम सारे|
होली रे होली .......

बाहर झांक कर कई दफा देख चुका हूं सिवाय एकाध बच्चे के कोई नजर नहीं आ रहा। 
ऐसा लग ही नहीं रहा कि आज होली है। न होली का हुड़दंग है, न रंग है, न उमंग। 
लोगों के चेहरे और कपड़े सूखे हुए हैं। टोलियां तो अब नजर ही नहीं आतीं।


ये है आज की शीर्षक रचना का अंश

होली है भई होली है 
रंगों ने खूब मस्ती घोली है

राधा और कान्हा का प्यार 
आ गया फागुन मेरे यार 

गोपियों संग हंसी ठिठोली 
भर गयी फूलों से सबकी झोली 

आज्ञा दें मुझे यशोदा को
धन्यवाद दें भाई कुलदीप को..

एक गीत तो बनता है आज













5 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति। होली की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात
    सस्नेहाशीष छोटी बहना
    बहुत सुंदर प्रस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  3. होली के रंगो से रंगी बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. aaha sundar rachnayein.....meri rachna ko yahan sthan diya shukriya

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...