पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 20 मार्च 2016

247....विजय ध्वज लहराते चले

सुप्रभात दोस्तो 
सभी को सादर प्रणाम 
आशापुरा माँ की कृपा और आप सब की दुआ से राजस्थान पटवारी भर्ती की प्रारम्भिक परीक्षा मे उत्तीर्ण हो गया । अब मुख्य परीक्षा की तैयारी की वजह से अप्रैल मे मिलना नही हो पाएगा । 


आइए चलते आज की प्रस्तुति की ओर .....


एक बार एक हंस और हंसिनी हरिद्वार के सुरम्य वातावरण से भटकते हुए, उजड़े वीरान और रेगिस्तान के इलाके में आ गये!

हंसिनी ने हंस को कहा कि ये किस उजड़े इलाके में आ गये हैं ??
यहाँ न तो जल है, न जंगल और न ही ठंडी हवाएं हैं, यहाँ तो हमारा जीना मुश्किल हो जायेगा !
भटकते भटकते शाम हो गयी तो हंस ने हंसिनी से कहा कि किसी तरह आज की रात बिता लो, सुबह हम लोग हरिद्वार लौट चलेंगे !

कहाँ खबर थी,तुम्हारे साथ वो...
होली आखिरी थी...
नही तो जी भर कर...
खेल लेती मैं होली...
तुम्हारी हथेलियों से...
मेरे गालो पर लगा वो गुलाल,
तो कब का मिट गया गया था..
पर तुम्हारी हथेलियों के निशां,
आज भी मेरे गालो पर नजर आते है....
मुझे याद है...जब तुमने हँसते हुऐ,
गुलाल से सिंदूर भर दिया था,


ले आजादी की मशाल
वे झूमते गाते चले
कफ़न बाँधकर अपने सर
शान से मुस्काते चले

बाजुओं में जोश था
रक्त में थी रवानगी
भारत माँ के वंदन की
भरी हुई थी दीवानगी
केसरिया से तन मन रँग
विजय ध्वज लहराते चले


पढ़ाई के द्वारा इस दुनिया में कुछ भी हासिल किया जा सकता है,जैसा की हम सब जानते है,कई लोग अपने तेज दिमाग का उपयोग करके लाखो कमा रहे है,जैसा की आप सब जानते है,की दुनिया भर में कई सारे कांटेस्ट चलाये जा रहे है,क्विज आदि के,अगर आप एक छात्र है,और आप पढ़ने में ठीक-ठाक है,और आप को अपने उपर पूरा विशबास है,की मै जित सकता हु,तो आप इन साधनों द्वारा अपने परिवार की थोड़ी बहुत मदद कर पायंगे,और अपने सपनों को भी पूरा कर सकेंगे,अपना नाम दुनिया में फैला सकेंगे,तो चलिए आज मै कुछ ऐसे साधन बताऊंगा जिन के द्वारा आप कुछ कमाई अथवा अपनी रोज्म्रा की जिन्दगी में इस्तेमाल किये जाने बाले यंत्र को हासिल कर सकेंगे।


          कविताएँ
अच्छे लगते हैं मुझे आम के बौर,
हरे पत्तों से झांकते पीले-पीले बौर,
सुन्दर से,मासूम से, नाज़ुक से.

कुछ बौर झर जाएंगे,
फागुन की तेज़ आँधियों में
या बेमौसम की बरसात में,
पर कुछ झेल लेंगे सब कुछ,
खेल-खेल में उछाले गए पत्थर भी
और बन जाएंगे खट्टी कैरियां
या मीठे रसीले आम.


धन्यवाद 
अब दीजिए आज्ञा 
सादर विरम सिंह सुरावा

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर लिंक्स से सजी हुई हलचल .....आपको बधाई और उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाये ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाई विराम जी...
    एक से एक लिंक...
    आप सफल हों...
    ये कामना है।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...