पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 17 मार्च 2016

244....जब जनाजे से मजा नहीं आता है दोबारा निकाला जाता है

सादर अभिवादन..
संजय जी आज फिर नहीं हैं

देखिए आज की चुनिन्दा रचनाओं की कुछ पंक्तियाँ....

रूठने मनाने में
उम्र गुजर जाती  है
शाम कभी होती है
कभी धूप निकल आती है
चंद दिनों की खुशियों से
जिन्दगी सवर जाती है


कल रात मे नींद नही आई 
बहुत देर तक करवटें बदलने के बाद 
कब झपक गया पता नहीं
जब आँख खुली तो 
फगुनायी चेतना मे सराबोर था 



बुरा नहीं है फेसबुक पर दर्ज होना लेकिन किस हद तक ? छद्म प्रशंसाओं के फेर में खुद को खुदा समझ बैठना अपना नुकसान करना ही है। अटैंशन सीकिंग बिहेवियर कहां ले जायेगा पता भी नहीं चलेगा। यह तो ध्यान में रखना ही होगा कि जो जगह हमारी जिंदगी के कुछ लम्हों को हमारी कुछ बातों को कहने सुनने के मंच के तौर पर थी, उसे कहीं जरूरत से ज्यादा महत्व तो नहीं मिलने लगा है।


मन तो करता है 
uninstall कर के 
दुख, दर्द और विरह 
install कर दूँ 


सपने में....शशि पुरवार
धुआँ धुआँ होती  व्याकुलता
प्रेम राग के गीत सुनाओ
सपनों की मनहर वादी है
पलक बंद कर ख्वाब सजाओ



ये है आज की शीर्षक रचना का अंश
सच को लपेटना
किसको कितना
आता है
ठंड रक्खा कर
'उलूक' तुझे
बहुत कुछ
सीखना है अभी
आज बस ये सीख
दफनाये गये
एक झूठ को
फिर से निकाल
कर कैसे
भुनाया जाता है ।


इज़ाज़त दें
दिग्विजय

10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    बहुत बढ़िया परस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप महानुभावो से सादर निवेदन है की कृपया मेरा ब्लॉग पढ़े और उचित मार्गदर्शन दे , ब्लॉग का लिंक नीचे है ।

    Sumitsoniraj.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    सादर प्रणाम
    सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुप्रभात
    शानदार संयोजन
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति । आभार दिग्विजय जी 'उलूक' के सूत्र 'जब जनाजे से मजा नहीं आता है दोबारा निकाला जाता है' को आज की हलचल में शीर्षक रचना का स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभप्रभात...
    सुंदर संकलन...
    आभार ततकाल प्रस्तुति बनाने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...