पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

रविवार, 13 मार्च 2016

240..उजाले के लिए रातों में, नन्हा दीप जलता है

सभी को प्रणाम 
सुप्रभात 
आइए चलते है
आज की कड़ीयो 
की ओर

उच्चारण पर....रूपचन्द्र शास्त्री

कहीं चन्दा चमकता है, कहीं सूरज निकलता है,
नहीं रुकता, नहीं थकता, समय का चक्र चलता है।
लड़ा तूफान से जो भी, सिकन्दर बन गया वो ही,
उजाले के लिए रातों में, नन्हा दीप जलता है।।





एक  नौकर  का  काम  पानी  भरना  था , वह  दूर  कुएं  से  पानी  निकलता  था । उसके  पास  दो  बड़े  मटके  थे जिसे  वह  पानी  भर  कर  एक  डंडे  में  बाध  कर  कंधे  के  दोनों  तरफ  लटकाता  था  और  अपने  मालिक  को  ले  जाकर दिया  करता  था ।
एक  नौकर  का  काम  पानी  भरना  था , वह  दूर  कुएं  से  पानी  निकलता  था । उसके  पास  दो  बड़े  मटके  थे जिसे  वह  पानी  भर  कर  एक  डंडे  में  बाध  कर  कंधे  के  दोनों  तरफ  लटकाता  था  और  अपने  मालिक  को  ले  जाकर दिया  करता  था ।


फिर उँगलियों के पोरो में,
धागों को उलझा रही हूँ...
कि सुलझा रही हूँ....
उलझे तो तुम्हारे ख्याल हो,
सुलझे तो तुम्हारे जवाब हो.....
मैं फिर धागों में,
हमारे एहसासों को पिरो रही हूँ.....
बिना किसी शर्त के,
बिना किसी वादों के,
मैं बुन रही हूँ,..



दिल से उतर रहे हैं
रिश्ते करवट बदल रहे हैं

पेड़ छाल बदलें जो इक बार फिर से
उससे पहले
चलो शहर को धो पोंछ लो

शगुन अच्छा है

दिल की हरारत से
रिश्तों की हरारत तक के सफ़र में
इस बार मुझे नहीं होना नदी .........

       
            अब दिजिए इजाजत
             आपका विरम सिंह सुरावा 
                     धन्यवाद


5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    अच्छा चयन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद आप ने मेरी रचना गरीबी के दिन को जगह दी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल .......आभार

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...