पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 11 मार्च 2016

238....देश से कोई भी बड़ा नहीं

जय मां हाटेशवरी...

सर्वप्रथम आप सभी  का स्वागत है।...
मैं कुलदीप ठाकुर...
पुनः उपस्थित हूं...

बढ़ गया था प्यास का एहसास दरिया देख कर
हम पलट आये मगर पानी को प्यासा देख कर
हम भी हैं शायद किसी भटकती हुई कश्ती के लोग
चीखने लगते है ख्वाबो में जजीरा देख कर
जिस की जितनी हैसियत है उसके नाम उतना खुलूस
भीख देते हैं यहाँ के लोग कासा देख कर
मांगते हैं भीख अब अपने मुहल्लो में फकीर
भूख भी मोहतात हो जाती है खतरा देख कर
ख़ुदकुशी लिखी थी एक बेवा के चेहरे पर मगर
फिर वो जिन्दा हो गयी बच्चा बिलखता देख कर ......


“अविभाज्य बिंदु”
वह अविभाज्य बिंदु
जो रोक पता
गर्भ में स्वछन्द तैरती आशाओं को ; मिटने से
इससे पहले की बिओप्सी की तीखी सलाई
भेद कर स्पष्ट कर देती उनके स्त्री/पुरुष होने का भविष्य,
और यही
उनके लिए अभिशाप बन जाता |
वह अविभाज्य बिंदु
जो वास्तव में मानवता के वृत्त का केंद्र है
जिसकी परिधि से अपना अर्धव्यास पूर्ण कर
स्त्रियां तो केंद्र पर आ चुकी
मगर कहीं न कहीं अपने हिस्से का अर्धव्यास
क्यों पुरुष आज तक पूरा नही कर पाया |



जिंदगी हमसे मिली रेलगाड़ी में 
जिंदगी हमसे मिली थी
रेलगाड़ी में
बोझ काँधे पर उठाये
क्षीण साडी में.
कोच में फैला हुआ
कचरा उठाती  है
हेय  नजरें  झिड़कियां 
दुत्कार पाती है.


एक फोजी की होली
राह तुम मेरी न देखना
इन्तजार मेरा ना करना
मुझे पता है तुम रो रही हो
डबडबाई आँखों से
बहुत कुछ कह रही हो
अरे तुम फौजी की पत्नी हो
मुझ से भी जांबाज
विचलित क्यूं हो रही हो



तुम ही दि‍खते हो......
देखना हो खुद को
मुझमें देख लि‍या करो
चेहरे की हर रेखाओं में
अब तुम ही दि‍खते हो.......

ज़िन्दगी है दाँव पर  --- नवगीत
s1600/DSC03768-1%2B%25282%2529
हादसों में गीत
बनते बोल ,
चढ़े पशुओं  के बदन पर
सभ्यता के खोल ;
       दलदली है ,
       किन्तु जादू की नदी है
       ये सदी
       आँख में है ...


अब फागुन के दिन हैं सताने लगे हैं
s640/12043217_10205792450153981_179296371831531864_n
हम से मिलना उन्हें ख़ुश करता बहुत है
बिना पूछे ऐसा वह सब को बताने लगे हैं
किनारे नहीं बीच धारे मिल कर भी वह
बीच रास्ते अनायास अचकचाने लगे हैं
समय ही समय था जब मिलते थे पहले
जाने क्यों वह अब जल्दी घर जाने लगे हैं



किसी की वेदना के साथ,मन में वेदना तो हो - सतीश सक्सेना
s200/20382_857048734369327_7668055444251819087_n
भले विश्वास ईश्वर पर न हो,पर भावना तो हो !
वहां पर सर झुके या न झुके पर चेतना तो हो !
अगर गुज़रें कभी मस्जिद या देवस्थान के आगे,
भले घुटनों पे न बैठें ,मगर शुभकामना तो हो !
हजारों बार गप्पे मारते , शमशान हो  आये,
किसी का पुत्र कंधे पर हो, अंतर्वेदना तो हो

उत्सवकाल
ये आज की स्त्री की गौरवमयी गाथा है
स्वीकारनी तो पड़ेगी ही
फिर माथा नवाकर स्वीकारो या हलक में ऊंगली डलवाकर ......निर्णय तुम्हारा है

देश से कोई भी बड़ा नहीं
s320/pix%255B1%255D
देश किसका नहीं है
या यूं कहूँ देश किसका है
ये कहाँ तय होगा
विस्वविद्यालयों  मे तो कदापि नहीं
शिक्षा अगर राजनीति का आखाडा बन गई
तो विद्यार्थी पहलवान तो बन जाएंगे
मगर किसी कुस्ती मे मारे जाएंगे
सबके होते है अपने आदर्श , विद्यार्थियों के तो जरूर होंगे
आक्रोश और क्रांति की राह
आदर्श तो नहीं हो सकती
ऐक स्वतंत्र रास्ट्र की अस्मिता पर प्रशन
ये क्रांति नही हो सकती






गरीब दूर तक चलता है .. खाना खाने के लिए...
अमीर दूर तक चलता है...खाना पचाने के लिए.....
किसी के पास खाने के लिए .. एक वक़्त की रोटी नहीं है...
किसी के पास खाने के लिए वक़्त ही नहीं है...
कोई अपनों के लिए ...रोटी छोड़ देता है....
कोई रोटी के लिए... अपनों को ही छोड़ देता है...


धन्यवाद।





 



10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    मन से बनाई आज की प्रस्तुति आपने
    अंत में मन ये भी कहता होगा बस
    ये अंतिम रचना और ले लूँ...
    अच्छी लगी आज का प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    शानदार प्रस्तुति
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छे लिंक मिले , रचना शामिल करने के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. धन्यवाद कुलदीप जी | शानदार प्रयास है | बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...