पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 5 मार्च 2016

232 .... पर कटी पाखी



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

"लीक पर वे चलें जिनके
चरण दुर्बल और हारे हैं ,
हमें तो जो हमारी यात्रा से बने
ऐसे अनिर्मित पंथ प्यारे हैं।"
साभार .... सर्वेश्वर दयाल सक्सेना


यौनाकर्षण, स्त्रियां, बलात्कार


आज समाज हर और यौनाकर्षण से भरा हुआ है.
आलपिन से लेकर कारों तक हर चीज स्त्री के
यौनाकर्षण के आधार पर बेची जाती है.
ऐसे स्त्रियों की भी कोई कमी नहीं है
जो नाचगाने (केबरे), पिक्चर, विज्ञापन, आदि कि लिये
अपने आपको बडे आराम से अनावृत करती हैं
एवं मादक मुद्राओं में चित्रित होती हैं.



शादी का लड्डू कब खायें


आखिर आदम जो फल खाकर पछताया उसी के तो
परिणाम स्वरूप दुनिया पछता रही है आज तक।
इसलिये..शादी करनी है, ये अटल सत्य है,
इसमें कोई दोराय नही..
लेकिन कब करें ये बडा यक्ष प्रश्न है।


कुछ नया करके दिखलाओ



इस बार पहले होटलों, रेस्तराओं, चाय दुकानों, पर जाओ
बालकों को बाल श्रम से बचाओ ,
उनकी दय्निया हालत पर दृष्टी दोडाओ
फीर बाल दिवस मनाओ



उपलब्द्धियां और संभावनाएं


एक बादल झुका मेरी छत पर सुनो, हां सुनो जी सुनो/
उस बादल ने कितने रूप धरे/हां सुनो जी सुनो/
खरगोश बना, वह मोर बना/वह सिपाही बना/वह चोर बना/
उस चोर से भैया हम खूब डरे/हां, सुनो जी सुनो।“



कविता के बाद कहानी पर नजर



ग्राम्य जीवन पर लिखनेवाले कहानीकार
अब भी रेणु की भाषा के अनुकरण से आगे नहीं बढ़ पाए हैं ।
ग्राम्य जीवन चाहे कितना भी बदल गया हो
हिंदी कहानी में गांव की बात आते ही
भाषा रेणु के जमाने की हो जाती है ।




औरत का दर्द और कुछ सवाल



मैं अपनी निजी तकलीफ मानती हूं, सिर्फ अपना दर्द, वह किसी और का भी तो दर्द हो सकता है. लोहा-लोहे को काटता है इसलिए यह सब लिखना जरूरी है ताकि एक दर्द दूसरे के दर्द पर मरहम रख सके. हो सकता है, जिस कठिन यातना के दौर से मैं गुजरी हूं, कई और मेरी जैसी बहनें गुजरी हों, और शायद वे भी चुप रह कर अपने दर्द और अपमान को छुपाना चाहती हों. या अब तक इसलिए चुप रही हों कि अपने गहरे जख्मों को खुला करके क्या हासिल? खास करके जब जख्म आपके अपने ने दिये हों. वही जो आपका रखवाला था. जिसे अपना सब कुछ मान कर जिसके हाथों में आपने न केवल अपनी जिंदगी की बागडोर सौंप दी बल्कि अपने सपने भी न्योछावर कर दिये.



पर-कटी पाखी



बाल-मन निर्मल, पावन और कोमल ऋषि-मन होता है।
बालक तो निश्छल और निःस्वार्थ भाव से प्रेम करते हैं।
और प्रेम ही तो मोह का मूल कारण होता है।
बन्धन में बाँध लेता है भावुक भोले-मन को।


फिर मिलेंगे .... तब तक के लिए
आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव




7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    अतुलनीय प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. *पाँच लिंकों का आनन्द* मंच पर बहुत अच्छे-अच्छे
    ज्ञानवर्धक लिंकों से अवगत हुआ। मंच के सभी
    चर्चाकारों को सेवाभावी कार्य के लिए
    धन्यवाद।
    ...आनन्द विश्वास

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर व् सारगर्वित लिंकों से सजी पोस्ट साभार! आदरणीया यशोदा जी!
    भारतीय साहित्य एवं संस्कृति

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय भाई संजय जी
      आज की प्रस्तुति की चर्चाकार
      मैं नहीं मेरी विभा दीदी हैं
      सादर
      यशोदा

      हटाएं
  4. सुप्रभात
    आनन्दमय प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...