पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 4 मार्च 2016

231...“घुटन क्या चीज़ है, ये पूछिये उस बच्चे से,

जय मां हाटेशवरी...

आनंद के इस सफर में...
मैं कुलदीप ठाकुर...
पुनः उपस्थित हूं....
“घुटन क्या चीज़ है, ये पूछिये उस बच्चे से,
जो काम करता है, खिलौने की दुकान पर….!!!

सबसे पहले....
s1600/images%2B%25281%2529
प्राणनाथ ! यह बात जान लें, जो-जो दोष बताये वन के
गुण रूप वे हो जायेंगे, स्नेह आपका पाकर सारे
रघुनन्दन ! मृग, सिंह आदि, वन प्राणी भाग जायेंगे
देख आपका रूप अनोखा, होकर फिर भयभीत आपसे
निश्चय ही मुझे जाना वन, गुरूजनों की ले आज्ञा
प्राण शेष ये नहीं रहेंगे, हुआ यदि वियोग आपका
देवराज भी साथ आपके, नहीं अनादर कर सकते हैं
पतिव्रता सह सके वियोग न, यही आप भी कहते हैं
यद्यपि वन में दोष व दुःख हैं, किन्तु यह नियति है मेरी
पिता के घर यह बात सुन चुकी, सत्य विधि यह होके रहेगी

मम्मी नहीं जाना स्कूल--महेश कुशवंश
s1600/sardee
 टीचर जी  बस डांट पिलातीं
सर जी छूते इधर उधर
वाशरूम भी साफ नहीं है
जाऊ तो मैं जाऊ किधर
आया दिनभर मुह बिचकाती
भैया गाते गाना
बच्चे चोटी खीच डालते
चट कर जाते खाना
मैं तो घर मे ही पढ़ लूँगी
तुम ही मुझे पढ़ाओ
गंदे संदे स्कूलों से
छुट्टी मुझे दिलाओ
सिर्फ गाल बजाएँगे
s1600/neta
देश द्रोह की परिभाषाएँ बदल गई
बोलने की आज़ादी
मूलभूत अधिकार ही  रह गए याद
देश खो गया
सत्ता की कुर्सी रह गई आँखों के सामने
देश कहाँ  गया
भाई इन्हें सत्ता मे रहने दो
नही तो वो दिन दूर नहीं जब ये
सब कुछ भूल जाएंगे
वोटों के लिए ईमान ही नहीं बेचेंगे
माँ भी पड़ोसियों को दे आएंगे


देश के बैरियों का करूँगा कतल |--उमाशंकर मिश्रा
    उनकी महफ़िल में कैसी तकरीर थी
कट गई गरदने लापता कौन है?
                    दंगे भड़के नहीं यूँ लगाये गए|
तल्ख़ किसने कहे सरफिरा कौन है?


सोच की हद--सु-मन (Suman Kapoor)
s320/stock-photo-60649746-hand-holding-on-chain-link-fence
चल दूँ राह पर उस तरफ
जिस तरफ ले जाना चाहे कोई
दिल दिमाग के हर दरवाजे पर
लगा दूँ एक जंग लगा ताला
मन के वांछित कारावास से
कर दूँ निर्वासित अपना वजूद


ग़ज़ल--Naveen Mani Tripathi
हो   रही   डुग्गी   मुनादी   इश्क  की ।
तूम  उसे   बस   मेहरबाँ  कहते  रहो ।।
मत लगा  तू  तोहमतें  नाजुक  है  वो ।
राह   पर   बन   बेजुबाँ   चलते  रहो ।।


गए दि‍न की तस्‍वीर.....--रश्मि शर्मा
s400/DSC_0022%2Bcopy
स्‍लाइड शो की तरह
गुजरती है आंखों से
गए दि‍न की तस्‍वीर सारी
झील का पानी अब तक ठहरा है....


मुसाफ़िर--नीलांश
 मुझे मालूम है फिर आसमाँ का  रंग क्या होगा
 परिंदा  हूँ,भरोषा पँख पर खुद के, अगर कर लूँ
कल, सूरज  !, न  जाने कौन सी ,धूप लाये "नील"
मुसाफ़िर हूँ ,हर रास्ते  को हमसफ़र कर कर लूँ


काम करो ऐसा कि पहचान बन जाये;
हर कदम चलो ऐसे कि निशान बन जायें;
यह जिंदगी तो सब काट लेते हैं;
जिंदगी ऐसे जियो कि मिसाल बन जाये!
धन्यवाद।













                        






5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    दुखती रग
    “घुटन क्या चीज़ है, ये पूछिये उस बच्चे से,
    जो काम करता है, खिलौने की दुकान पर….!!!
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    मनभावन प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. पठनीय और खूबसूरत लिंक्स..आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी पसंद की दाद देना होगी |

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...