पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 27 फ़रवरी 2016

225 ..... चन्द्रशेखर आजाद शहीद दिवस ---. "27 फरवरी 1931..





 चन्द्रशेखर आज़ाद जी की शहादत को कृतज्ञ राष्ट्र नमन करता है..



पिता उड़ने की कीमत जानता है
वक़्त के साथ 
काट दिए जाते है पंख
जूझना पड़ता है 
समाज की बेडियो में




सपनों की सच्चाई देखी
देखा टूटें अरमानों को
प्रतिभा के माथे चढ़ चढ़ कर
मन का मढ़ना छोड़ दिया है 
हाँ! मैंने कविता पढ़ना छोड़ दिया है





तो क्या सब याद रखते हो सब
घुटते रहते हो उन सब के लिए
क्या वापस ला सकते हो वो सब
पलट सकते हो घड़ी की सूइयां 





कदम तुम्हारे बडे सितमगर, 
मुझे देख मुड जाते हैं
धूल मगर उन कदमों की राहों में 
फूल खिलाती है






इस बच्चे के बारे में कहा जाए तो यह बच्चा एकदम से, कुपाषित थी. उसकी उम्र तो करीबन 3 साल की है. लेकिन दिखने के लिए जैसे की, 6-महीने का बच्चा हो. उसका वजन किया तो वह सात किलो और तीनसो ग्राम निकला. जब की तीन साल के बच्चे का वजन 15-20 के करीब होना चाहिए. उस बच्चे को जब मैंने गोद में उठाया था तो उसके केवल हड्डिया मुझे छूह रही थी. तो पता चल रहा था की इस बच्चे की हालात कितनी क्रिटिकल थी.





वर्ग के संवैधानिक हक और समान हिस्सेदारी के समर्थन में
 कोई भी मांग या आन्दोलन देशद्रोह क्यों है?
 राष्ट्रहित के विरुद्ध क्यों है? 
इस सवाल का उत्तर जान लेने के बात स्वत: ही
 इस सवाल का जवाब मिल जायेगा कि
 'आखिर देश है क्या?'






इधर हवाई जहाज के मालिकों ने यात्री के साथ अतिरिक्त वजन की सीमा को भी पहले से लगभग आधा कर दिया है और बिना किसी प्रतिक्रिया के यह बात यात्रियों ने स्वीकार भी कर लिया । नयी सीमा के अतिरिक्त वज़न पर अलग से शुल्क देना होगा । हालांकि यह पहले भी देना पड़ता था लेकिन तब वज़न की सीमा ज्यादा थी । कंपनियाँ जानती हैं कि हवाई जहाज में चलने वाले ज़्यादातर लोग हील-हुज़्ज़त से बचने वाले लोग हैं जिनके लिए हर चीज़ का साधारण सा इलाज़ है धन ।


फिर मिलेंगे .... तब तक के लिए 
आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव



7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    आप का चयन हरदम अनूठा ही रहता है
    सारी रचनाएं समाहित रहती है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात
    सुन्दर चयन रचनाओं का |

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात दीदी
    शानदार प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. पांच लिंकों का आनन्द में आनंद ही आया-- सरस प्रस्तुति करण बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर प्रस्तुति....
    आभार आप का आंटी....
    शहीद को नमन....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...