पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 26 फ़रवरी 2016

224....कुछ ख़ार कम तो कर गये गुज़रे जिधर से हम.

जय मां हाटेशवरी...

भडका रहे हैं आग लब-ए-नग़्मगर से हम
ख़ामोश क्यों रहेंगे ज़माने के डर से हम
ले दे के अपने पास फ़क़त इक नज़र तो है
क्यों देखें ज़िंदगी को किसी की नज़र से हम
देगा किसी मक़ाम पे ख़ुद राहज़न का साथ
ऐसे भी बदगुमान न थे राहबर से हम
माना कि इस ज़मीं को न गुलज़ार कर सके
कुछ ख़ार कम तो कर गये गुज़रे जिधर से हम.
साहिर जी की इस प्यारी सी गजल के बाद....
पेश है आज के लिये...
मेरी पसंद...


कहानी - शम्भू रैदास--BRIJESH NEERAJ
क्या कहें? अचानक उन्हें लगा कि उस विशालकाय लम्बे व्यक्ति के सामने वह बिल्कुल बौने हो गए हैं। यदि शम्भू चाहता तो इस झोले की सामग्री से वह अपने घर की दीवाली
जगमग कर सकता था। आखिर उसके घर में भी तो अँधेरा था। उस अँधेरे को दूर करने की खातिर ही वह सबेरे मिन्नतें करने आया था। परन्तु, उस समय उनका दिल जरा भी नहीं
पसीजा था। इधर शम्भू को देखो, उसने इस घर की कितनी परवाह की। वह हमारे आने के बाद झोले की तलाश में भटका होगा। आखिर,  उसने इस घर का नमक खाया है। उसके पुरखे
यहाँ की ड्योढ़ी पर पले थे। शायद, उसने अपना वही हक अदा किया है। मगर नहीं, संभवतः यह सम्पूर्ण सच नहीं है। सच तो यह है कि शम्भू के खून में ईमानदारी है, मानवता
है,  चरित्र है और वह सब कुछ है जो एक सच्चे इंसान में होना चाहिए। शायद हम जैसे शहर की आडम्बरपूर्ण सभ्यता में आत्ममुग्ध रहने वालों में इसी निश्छल सच्चाई
की नितान्त कमी है।



असली देशभक्त कौन ?--Swarajya karun
यह सूची और भी लम्बी हो सकती है .जितना मुझे ख्याल आया , मैंने लिख दिया .अगर आप चाहें तो इसमें अपनी ओर से भी कुछ बिंदु जोड़कर सूची की लम्बाई बढ़ा सकते हैं
. इससे देशभक्तों की पहचान तय  करना और भी ज्यादा आसान हो जाएगा
 


शिव को करना ही होगा विषपान--विकेश कुमार बडोला
अब सह न सकेंगे
मातृभूमि का अपमान
शिव को अब
करना ही होगा विषपान


जाने किस बहकावे में--शालिनी रस्तौगी
आक्रोश से फटी पड़ती है
कि भीतर के लावे से
सब कुछ ख़ाक कर देने को आतुर
वीर प्रसविनी आज
भक्ष रही निज पूतों को
जाने किस बहकावे में


इश्‍क का स्‍वाद ....--रश्मि शर्मा
s320/DSC_0245%2Bcopy
बूंदों ने हाेंठो को छूकर
हवाओं के कान में बोला
इश्‍क का स्‍वाद बड़ा मीठा है
गढ़ की ऊंची दीवारों से झांक
सूरज मुस्‍कराने लगा


श्याम सलोने--Asha Saxena
s1600/images
 नयनों में आ कर बसी
अनमोल भंगिमा तेरी
श्याम सलोने
तेरी कमली तेरी लाठी
तेरी धैनूं तेरे सखा
मुझको बहुत सुहाय
तू सबसे अलग लगे 
मन से छवि न जाय |


ज़िन्दगी संभलती नहीं है ...--डॉ. मोनिका शर्मा
s400/DSC00194
ये बातें "पाखी" के संपादक प्रेम भारद्वाज जी और विविध भारती में अपनी आवाज के लिए ख़ास पहचान रखने वाले यूनुस खान जी के संवाद का हिस्सा हैं जो हाल ही में जयपुर
में होने वाले साहित्यिक आयोजनों की श्रृंखला "सरस साहित्य संवाद" में सुनने को मिलीं | मुझे भी इस सार्थक संवाद को सुनने-गुनने का अवसर मिला | प्रेम भारद्वाज
जी ने अपने जीवन और रचनाकर्म से जुड़े कई पहलुओं पर खुलकर बात की |


अंत में पढ़े....
" कोई जित के हार जाता है , कोई हार के जित जाता है।
नही दिखते अकबर के ताबूत कोई , महाराणा प्रताप के घोडे प्रत्येक चौराहे पर नजर आते है ।"



बस आज यहीं तक...
धन्यवाद।














7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    अच्छा चयन
    पसंद आई सारी रचनाएँ
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात
    अच्छी प्रस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    सुन्दर सुत्र
    लिंक शामिल करने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति ।

    कोई जीत के हार जाते हैं
    कोई हार के जीत जाते हैं।
    नही दिखते अकबर के ताबूत कोई
    महाराणा प्रताप के घोडे
    प्रत्येक चौराहे पर नजर आते है ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिन्दगी संभलती नहीं..
    सुंदर लिंक.

    उत्तर देंहटाएं
  7. Bahut achhi rachnaye sanklit ki aapne. Meri rachna shamil karne ke liye dhnyawad

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...