पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 25 फ़रवरी 2016

223....दर्द मुझसे मिलकर अब मुस्कराता है


सादर अभिवादन
भाई संजय आज भी नहीे हैं
बीमा विक्रय अधिकारी हैं न वे
शायद इसीलिए...

आज की चुनी हुई रचनाओं के अंश......


सबके मन में ही बसते हैं 
वे समग्र शास्वत आते हैं
मुरझाये मानव,जीवन में 
गीतों का झरना लाते हैं
घने अँधेरे पर जाने कब ,
हौले हौले छा जाते हैं !
किसे ढूँढ़ते चित्र बनाये 
लाखों देव देवताओं में ,
दिव्य और विश्वस्त रूप की, मानव को पहचान नहीं है !

हम खुद कुछ कर नहीं सकते
करना आता जो नहीं
मगर यकीन जानिये 
जोड़ तोड़ में माहिर हैं
इसकी टोपी उसके सिर
करना हमारी पुरानी फितरत है


देह दीवानी 
हुई रूप गर्विता
सत्य न जानी|

यह शहर..... 
आदमी के साथ 
जीता और मरता है

कुछ अलग सा में...गगन शर्मा
हवलदार अभी तक बेहोश है।
इस वार्तालाप को पढ़ कर हंसी तो आती है,
पर यह एक कड़वी सच्चाई है।
हालात में एक्का-दुक्का प्रतिशत बदलाव भले ही आया हो,
पर अभी भी लाखों ऐसे लोग हैं जो इस तरह के भंवर जाल में फंसे हुए हैं।



और ये है शीर्षक रचना का अंश
ग़ज़ल गंगा में...मदन मोहन सक्सेना
दर्द मुझसे मिलकर अब मुस्कराता है
जब दर्द को दबा जानकार पिया मैंने

वक्त की मार सबको सिखाती सबक़ है
ज़िन्दगी चंद सांसों की लगती जुआँ है

आज यहीं तक
आज्ञा दें दिग्विजय को
वक्त रहा तो फिर मिलेंगे


5 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    उम्दा लिंक्स आज पढ़ने के लिए |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    सुन्दर सूत्रो का संयोजन ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |सुन्दर सूत्रो का संयोजन ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...