पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 24 फ़रवरी 2016

222.....पकड़ ले आइना हाथों में बस उनको दिखाता चल

सादर अभिवादन...

रश्मि दीदी की कविता पढ़ रही थी 
मैं ब्लॉग बुलेटिन में
.......
अंश कुछ इस तरह है.....
शराब में खो गया 
सुख चैन घर का 
बचपन न जाने कहाँ 
किस कोने खो गया 
रोता था घर 
सोचता था मन 
क्या यही होता है घर !
.....
सच ही तो लिखा है दीदी ने...

चलिए चलें...

लगा के बेटियों को, गले से है हँसाया जाता 
न इसके के बदले, कभी भी है रुलाया जाता 
बेटो में देखता बाप, अपने है बचपन की छाया 
मिलता बुढ़ापे में सुकून, पा कर है इनका साया

मन को भेदे, भय से गूथे, विश्वासों का जाल,
अंधियारे में मुझे सताए, मेरा ही कंकाल।

तन सूखा, मन डूबा है, तू देख ले मेरा हाल,
रोक ले शब्दों कोड़ों को, खिंचने लगी है खाल।

दो सौ इक्यावन लगे, फोन बुकिंग आरम्भ।
दिखा करोड़ों का यहाँ, बेमतलब का दम्भ। 


बेमतलब का दम्भ, दर्जनों बुक करवाये।
नोचे बिल्ली खम्भ, फोन आये ना आये।

मुफ्तखोर उस्ताद, दूर रहता है कोसों।
कौड़ी करे न खर्च, कहाँ इक्यावन दो सौ।।


काम क्रोध मद लोभ सब, हैं जी के जंजाल
इनके चंगुल जो फँसा, पड़ा काल के गाल !

परमारथ की राह का, मन्त्र मानिये एक
दुर्व्यसनों का त्याग कर, रखें इरादे नेक ! 


शिक्षा हमें समझ देती है, संवेदना देती है, 
सवाल देती है, सवालों से जूझने की ताकत देती है, 
रास्तों को ढूंढने की ओर अग्रसर करती है। 
शिक्षा हमें तर्कशील बनाती है, विवेकशील बनाती है और 
खुद अपना नजरिया बनाने के लिए हमारे जेहन को तैयार करती है। 


ये रही आज की शीर्षक रचना का अंश

हज़ारों साज़िशें कम हैं सियासत की अदावत की 
हर इक चेहरे के ऊपर से नकाबों को हटाता चल 

कभी सच को हरा पाई हैं क्या शैतान की चालें? 
पकड़ ले आइना हाथों में बस उनको दिखाता चल 

आज्ञा दें यशोदा को
फिर मिलेंगे..






9 टिप्‍पणियां:

  1. आज की सभी रचनाएं अनुपम ! बातों की पोटली को सम्मिलित करने के लिये आपका हृदय से आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप के स्नेह मान-सम्मान के लिए आभार यशोदा जी ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. नमस्ते दीदी
    सुन्दर लिंको का संयोजन ।
    आनंद आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया प्रयास है, मेरी पोस्ट को मान देने का बहुत-बहुत शुक्रिया यशोदा जी....

    उत्तर देंहटाएं
  5. आभार आपका-
    सुन्दर लिंक्स-

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...