पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 23 फ़रवरी 2016

221...इंसान तब तक सलामत है जब तक वो परिवार से जुड़ा है .

जय मां हाटेशवरी...

एक कब्र पर लिखा था…
“किस को क्या इलज़ाम दूं दोस्तो…,
जिन्दगी में सताने वाले भी अपने थे,
और दफनाने वाले
भी अपने थे..
अब देखिये मंगलवारीय प्रस्तुति में...
मेरी पसंद....
पत्थर तब तक सलामत है
जब तक वो पर्वत से जुड़ा है .
पत्ता तब तक सलामत है
जब तक वो पेड़ से जुड़ा है .
इंसान तब तक सलामत है
जब तक वो परिवार से जुड़ा है .
क्योंकि परिवार से अलग होकर आज़ादी तो मिल
जाती है
लेकिन संस्कार चले जाते हैं ..


नहीं अट पायेगी मेरी कविता.......--Amrita Tanmay 
लिखती रहती हूँ प्रेम की कविता
कभी आधा बित्ता कभी एक बित्ता
कभी कोरे पन्नों को
कह देती हूँ कि भर लो
जो तुम्हारे मन में आए -
भावुकता , आत्मीयता , सरलता , सुन्दरता
या भर लो विलासिता भरी व्याकुलता
या फिर कोई भी मधुरता भरी मूर्खता .....


विंड मि‍ल्‍स और मैं.....--रश्मि शर्मा
s320/DSC_0521
 वि‍ंड मि‍ल्‍स के तले
तेज हवाओं से बचाने को
जब भरती थी मुट्ठि‍यों में
अपने ही केश
एक हाथ बि‍खेर देता था सब
जैसे
धूप में खि‍लखि‍लाहट भर
कि‍सी ने लपेटा है मुझको


वो इक हादसा भूलना चाहता हूँ ...--Digamber Naswa
में दीपक हूँ मुझको खुले में ही रखना
में तूफ़ान से जूझना चाहता हूँ
कहो दुश्मनों से चलें चाल अपनी
में हर दाव अब खेलना चाहता हूँ



रविकर गिरगिट एक से, रहे बदलते रंग
खिले गुलाबी ख़ुशी मन, हो सफ़ेद जब दंग |
हो सफ़ेद जब दंग, रचे रचना गड़बड़ सी |
झड़े हरेरी सकल, होय गर बहसा-बहसी |
बदन क्रोध से लाल, हुआ पीला तन डरकर |


देखना/ दिखना/ दिखाना/ कुछ नहीं में से सब कुछ निकाल कर ले आना (जादू)--सुशील कुमार जोशी
s320/Gandhari_explains_to_Dhritrashtra
किसने क्या देखा
क्या बताया
इस सब को
उधाड़ना बंद कर
उधड़े फटे को
रफू करना सीख
कब तक अपनी
आँख से खुद
ही देखता रहेगा



देख समय की चाल " दोहावली--सरिता भाटिया
देख समय की चाल को,खुद को लेना ढाल।
बहक कहीं जाना नहीं, यह दुनिया जंजाल ।।
नस नस में फैला जहर ,देख समय की चाल।
कंकर हो तो ढूंढ ले, काली सारी दाल ।।

अनुमति देंं
कुलदीप



   











   

6 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर सूत्र संयोजन । आभार कुलदीप जी 'उलूक' के सूत्र 'देखना/ दिखना/ दिखाना/ कुछ नहीं में से सब कुछ निकाल कर ले आना (जादू)' को भी स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर रचना संसार .... आभार मुझे भी शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    सुन्दर रचना । सुन्दर लिंको का संयोजन

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्राप्त आनंद के लिए हार्दिक आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर रचनाएं...मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...