पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 16 फ़रवरी 2016

214...सबसे अधिक मौसम है सुहाना वसंत का।


जय मां हाटेशवरी...

स्वागत है...
आप सभी का...
हर तरफ प्रसन्नता है...
क्यों न हो...
मौसम ही ऐसा है...
चलते हैं आज के आनंद की ओर...
पर उससे पहले...
ले के ख़ुदा का नूर वो आना वसंत का
गुलशन के हर कोने पे वो छाना वसंत का
दो माह के इस वक्त में रंग जाए है कुदरत
सबसे अधिक मौसम है सुहाना वसंत का।
मेला बसंत-पंचमी का गाँव-गाँव में
और गोरियों का सजना-सजाना वसंत का
वो रंग का हुड़दंग वो जलते हुए अलाव
आता है याद फाग सुनाना वसंत का
होली का जब त्यौहार आये मस्तियों भरा
मिल जाए आशिकों को बहाना वसंत का
कोई हसीन शय ख़लिश रहे न हमेशा
अफ़सोस, आ के फिर चले जाना वसंत का।

विंडोज़ लाइव राइटर का ओपन सोर्स नुमा संस्करण ओपन लाइव राइटर 
Ravishankar Shrivastava
इसमें अब अंतर्निर्मित हिंदी स्पेल चेकर – यानी हिंदी वर्तनी जांच की सुविधा उपलब्ध और क्या खूब उपलब्ध!
स्क्रीनशॉट पर निगाह मारें, और सीधे ही open live writer के डाउनलोड लिंक पर जाएँ और अपनी पोस्टों में शुद्धता भरें.
और हाँ, क्या आपको बताने की जरूरत है कि इस औजार को आप हिंदी टैक्स्ट एडीटर (हिंदी शब्द संशोधक) या वर्ड प्रोसेसर के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं और इसमें
टाइप की गई सामग्री को शुद्ध कर अपनी हिंदी फ़ेसबुकिया पोस्टों को भी ठीक कर सकते हैं.


परिवर्तन मौसम का
 Asha Saxena
पर अचानक गिरता त्ताप्मान
बर्फवारी की मार
किसान कैसे झेल पाता
पाले के आसार देख
 बेचारा  सदमें में आजाता
आनेवाले कल के हश्र में
खुद को असुरक्षित पा
जीवित रहना नहीं चाहता


टूटना शुभ होता है कांच का .... सदा
yashoda Agrawal
s320/sadaa
गिरकर उठना फिर संभल जाना संभव होता है,
नजरों में गिरकर उठ पाना मुश्किल हो जाता है ।
लड़ लेता है इंसान हर लड़ाई गैरों से हर तरह,
अपनों से लड़कर जीतना मुश्किल हो जाता है ।


किसी की चाह सीने में जगा कर देखते हैं
हिमकर श्याम
s320/love
उन्हें देखे से लगता है पुरानी आशनासाई
यकीं आ जाएगा नज़दीक जाकर देखते है
उमीदें हैं अभी रौशन रगों में है रवानी
गुज़रते वक़्त से लम्हा चुरा कर देखते हैं


यही प्यार है......
Akanksha Yadav
s320/Valentine%2Bday-Krishna%2BKumar%2BYadav-Akanksha%2BYadav-Couple-Made%2Bfor%2Beach%2Bother-Valentine%2BDay-Love-Rose%2BDay-Saptrangi%2BPrem-%25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25A8%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%259F%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2588%25E0%25A4%25A8%2B%25E0%25A4%25A1%25E0%25A5%2587-%25E0%25A4%2595%25E0%25A5%2583%25E0%25A4%25B7%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25A3%2B%25E0%25A4%2595%25E0%25A5%2581%25E0%25A4%25AE%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25B0%2B%25E0%25A4%25AF%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25A6%25E0%25A4%25B5-%25E0%25A4%2586%25E0%25A4%2595%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2582%25E0%25A4%2595%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25B7%25E0%25A4%25BE-%2B%25E0%25A4%25AA%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25B0%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AEदो अजनबी निगाहों का मिलना
मन ही मन में गुलों का खिलना
हाँ, यही प्यार है............ !!


बसंत
जयन्ती प्रसाद शर्मा
जाड़े की जड़ता दूर हुई,
मनों की निराशा काफूर हुई।
पक्षियों का कलरव बना रहा,
सुखद भविष्य की सम्भावना............. आ गया बसंत........ ।
फूल रही खेतों में सरसों,
साजन आ जायेंगे परसों।
खिली कली आशा की,
लिख गई गोरी के मन में मिलन की प्रस्तावना............. आ गया बसंत....... ।


Impact of western culture in hindi
Jyoti Dehliwal
• पाश्चात्य देशों में एक-दूसरे के प्रति विश्वास का वातावरण है। अनायस कोई किसी पर शक नहीं करता। हम सहसा अजनबी पर विश्वास ही नहीं करते। हमें भी एक-दूसरे
पर विश्वास करना सीखना होगा।
• हमें भी उनकी तरह ट्राफ़ीक नियमों का कड़ाई से पालन करना होगा ताकि अपघातों की संख्या में कमी आएं।
• उनकी तरह हमें भी अपनी मुद्रा की इज्जत करते हुए, नोटों पर कुछ भी लिखने से अपने-आप को रोकना होगा।
• उनकी तरह स्वच्छता का ख्याल रखते हुए सार्वजनिक स्थानों पर गंदगी फैलाने से अपने-आप को रोकना होगा।
• उनकी ही तरह बिजली और पानी की बचत करना सीखना होगा।
आज तक का इतिहास देखते हुए यहीं लगता है कि हमने west का best न लेकर west का waste ही लिया है! पश्चिमी सभ्यता ने हम पर किसी भी चीज को अपनाने को लेकर दबाव
नहीं डाला है। यह हमारे उपर निर्भर है कि हम उनसे क्या लेते है best या waste!!!


धरती का भगवान                                                                                          
Hitesh Sharma
सबका  ये  है  पेट  भरता
फिर भी रोज़  मरता किसान
गिरता , पड़ता , रोता , बिलखता
पर  कभी  उठ  नहीं  पाता
भीड़  भरी  दुनिया  में 
सदा  अपने  को  अकेला  पाता
सबकुछ जान कर भी, हम बने अनजान 


बस और अधिक नहीं...
बस आनंद आना चाहिये...
धन्यवाद।

   








 

7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    बढ़िया व सलीकेदार प्रस्तुति
    आनन्दित कर गई
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    शानदार प्रस्तुति
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुलदीप जी, उम्दा प्रस्तुति। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर और पठनीय लिंक्स। मुझे शामिल किया, आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...