पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 9 फ़रवरी 2016

207.... सब को मंज़िल का शौक है, मुझे रास्ते का ...


जय मां हाटेशवरी...

कल की भारी बरफ-बारी के बाद....
सूर्य देव के दर्शन तो हो गये....
पर बिजली अभी भी गुल है....
बची हुई बैटरी से ही  चलाते हैं काम....
अंदाज़ कुछ अलग ही हे मेरे सोचने का...
 सब को मंज़िल का शौक है, मुझे रास्ते का ...

दिन महीने साल गुजरते जायेंगे -- हमारी आस्थाएं ...डॉ टी एस दराल
ओर यह सोचते हुए कि हमारा देश कितना आस्थाओं का देश है जो आज भी विकास से दूर पौराणिक धार्मिक गाथाओं के वशीभूत होकर जी रहा है।
ढाबे में बैठे इस युवक को यंत्रवत पूड़ी सब्ज़ी डोंगे में डालते हुए , जम्हाई लेते हुए ग्राहकों को देते हुए देखकर लगा कि ये बेचारा तो लगता है सारी जिंदगी यही
काम करता रहेगा। शायद दिन महीने साल गुजरते जायेंगे , भक्तजन यहाँ यूँ ही आते जायेंगे।


जीवन संग्राम !...कालीपद "प्रसाद
जीवन एक अनजान आश्चर्य है
इसमें अथाह सिन्धु की गहराई है
हिमाच्छिद पर्वत शिखर है
जलहीन मरू, सुखा सिकता है
फूलों की खुशबु और काँटों की चुभन है,
किस मोडपर किस से होगी मुलाकात
कोई नहीं जानता यह बात


आहट...दीप्ति शर्मा
देखो महसूस करो
किसी अपने के होने को
तो आहटें संवाद करेंगी
फिर ये मौन टूटेगा ही
जब धरती भीग जायेगी
तब ये बारिश नहीं कहलायेगी
तब मुझे ये तुम्हारी आहटों की संरचना सी प्रतीत होगी
और मेरा मौन आहटों में
मुखरित हो जायेगा।


कवि की मनोदशा...ई. प्रदीप कुमार साहनी
क्यों नहीं सब सुनते,
खुले दिल से कविता,
हठ कर कर सबको,
कब तक सुनाता जाऊँ ।
काव्य ही जब धर्म है,
कविता ही तो कहुँगा,
सुनने को तुझे आतुर,
कैसे बनाता जाऊँ ।


उड़ान....इन्द्रा...
लकीर के फ़क़ीर
बनना नहीं हमें
नए रस्ते अपने लिए
तलाशेंगे  खुद ही हम
तुम तो बस हमें
उड़ने को छोड़ दो
या साथ हो लो हमारे
नए नए सपने बुनो
सपने बनाने की
कोई उम्र होती नहीं
छोड रूढ़ीवाद  और
पुरानी परम्पराएँ
सब नया  नहीं है बुरा
विश्वास करके देखो



Fantastico things which we learn from other animals in hindi...Jyoti Dehliwal
कई बार हम हंसों के समूह को अंग्रेजी के अक्षर v के आकार में उड़ते हूए देखते है। जब समूह का कोई पक्षी पंख फड़फड़ाता है तो ठीक पिछे उड़ रहे पक्षी के लिए उड़ान
भरना आसान हो जाता है। अकेला पक्षी जितनी दूर उड़ सकता है, v के आकार में पुरा समूह उससे कई गुणा ज्यादा दूर तक उड़ सकता है। जब सबसे आगे उड़ने वाला हंस थक जाता
है, तो वह v के आकार में पीछे आ जाता है और दूसरा हंस उसकी जगह ले लेता है। अर्थात मुश्किल काम करते समय अदला-बदली करने से लाभ होता है। पिछे उड़ रहे हंस, आगे
उड़ने वाले हंस को प्रोत्साहन की ध्वनी निकालकर तेज उड़ने के लिए प्रोत्साहित करते रहते है। हम इंसान पिछे से क्या कहते है? यदि हम इंसानों में थोड़ी सी भी टीमभावना
हो तो हम क्या नहीं कर सकते है?


बुलबुलों से ख़्वाब...सु-मन 
s320/12540936_1084472961584440_2050814912252918214_n







एक बौछार था वो शख्स - स्व॰ जगजीत सिंह साहब की ७५ वीं जयंती...शिवम् मिश्रा
 एक बौछार था वो शख्स
बिना बरसे
किसी अब्र की सहमी सी नमी से
जो भिगो देता था
एक बौछार ही था वो
जो कभी धूप की अफ़शां भर के दूर तक
सुनते हुए चेहरों पे छिड़क देता था...

स्वर्ग  में सब कुछ हैं मगर मौत नहीं हैं..
पौराणिक  किताबों में सब कुछ हैं मगर झूठ नहीं हैं...
दुनिया में  सब कुछ हैं लेकिन सुकून नहीं हैं...
इंसान में  सब कुछ हैं मगर सब्र नहीं हैं...
इसी लिये शायद रचनाएं  भी...
आवश्यकता से अधिक लिंक  हो  जाती है...
धन्यवाद।

7 टिप्‍पणियां:

  1. सभी लिंक्स उम्दा । मुझे शामिल करने का आभार ।

    ब्लॉगिंग के मुन्नाभाई अविनाश वाचस्पति जी को विनम्र श्रद्धांजलि ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी लिंक्स उम्दा । मुझे शामिल करने का आभार ।

    ब्लॉगिंग के मुन्नाभाई अविनाश वाचस्पति जी को विनम्र श्रद्धांजलि ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह..
    ग़ज़ब की रचनाएँ
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. नुक्कड़ के ब्लागर अविनाश जी वाचस्पति की असमय मृत्यू का समाचार है । ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे । श्रद्धांजलि ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति..आभार!
    अविनाश जी को विनम्र श्रद्धांजलि ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुलदिप जी, पांच लिंकों का आनंद में मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। अविनाश जी को विनम्र श्रद्धांजली। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...