पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 8 फ़रवरी 2016

206....कामदेव के पुत्र बसंत का, आना सरस, सुखद संयोग है

सादर अभिवादन
काफी दिनों के बाद
मैं फिर से
आपके समक्ष हूँ

बिना किसी लाग-लपेट के
चलिए चलें लिंक्स की ओर...

सजायाफ्ता है हम भी, सफ्फाक उस नजर के,
मेरी जल रही जमीं , है  धुआं  आसमान पर  ।।

कयामत के रोज वर्क से, कोई नहीं बचेगा,
कुछ हो चुके मुखातिब , कुछ है निशान पर ।।

सोता नहीं जब रात में, 
कहती उसकी माँ, 
सोता है या बुलाऊँ, 
जगा होगा वो कवि, 
बच्चा खुद ब खुद, 
सो जाता है यूँ ही ।

बस थोड़े से कुछ 
दो चार बेवकूफ 
सब कुछ समझते 
बूझते हुऐ एक दूसरे 
के साथ प्रश्नों की 
अंताक्षरी फिर भी 
खेल रहे होते हैं 

दादी ने गुल्लक दिलवाई 
बचत की आदत डलवाई 
मैंने भी इसको अपनाया 
चंद  सिक्के जमा किये 
फ्रेन्डशिप डे है आनेवाला
मन ने कहा क्यूं न खुद
फ्रेन्ड शिप बैण्ड बनाऊँ 
अपने मित्रों को पहनाऊँ 


"ऑसन ऑफ ब्लिस में".....रेखा जोशी
मन ही देवता मन ही ईश्वर 
मन ,जी हाँ मन ,एक स्थान पर टिकता ही नही 
पल में यहाँ तो अगले ही पल न जाने 
कितनी दूर पहुंच जाता है ,
हर वक्त भिन्न भिन्न विचारों की 
उथल पुथल में उलझा रहता है ,
भटकता रहता है यहाँ से वहाँ और न जाने कहाँ कहाँ ,
यह विचार ही तो है 


और ये है आज की प्रथम व शीर्षक कड़ी


"काव्य पिटारा में"..... प्रदीप भाई
माघ मास की शुक्ल पंचमी,
चेतन बन होगा जड़ंत,
सोलह कला में खिलि प्रकृति,
आयेंगे ऋतुराज बसंत ।


इज़ाज़त दें यशोदा को
फिर मिलेंगे
सादर









7 टिप्‍पणियां:

  1. सभी रचनायें अच्छी लगी। सामयिक भी है ।कटाक्ष भी अचूक है। इंद्रधनुषीय आनन्द की अनुभूति हुई।

    मेरी रचनाऐं शामिल करने के लिऐ यशोदा जी का आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी रचनायें अच्छी लगी। सामयिक भी है ।कटाक्ष भी अचूक है। इंद्रधनुषीय आनन्द की अनुभूति हुई।

    मेरी रचनाऐं शामिल करने के लिऐ यशोदा जी का आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी २रचनाओं को यहाँ स्थान देने का हार्दिक आभार ।
    बाकि रचनाएँ भी बेहतरीन । एक से बढ़कर एक ।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. हमेशा की तरह बहुत सुन्दर प्रस्तुति । आभार 'उलूक' की प्रस्तुति को भी स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति,मेरी रचना शामिल करने के लिऐ आभार यशोदा जी

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...