पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 7 फ़रवरी 2016

205..मुफ़्त का खाया मगर पचता नहीं

सादर अभिवादन
भाई विरम सिंह जी परीक्षा की तैय्यारी में व्यस्त हैं
वे सफल हों ऐसी शुभकामना करता हूँ


आज की चुनिन्दा रचनाओं की कड़ियो की ओर चलते है..


"अंदाजे ग़ाफ़िल में....चन्द्र भूषण मिश्र ग़ाफ़िल
सच है के तुझसे कोई रिश्ता नहीं
जी तेरे बिन पर कहीं लगता नहीं

है तस्सवुर ही ठिकाना वस्ल का
इश्क़ मुझसा भी कोई करता नहीं



"कुछ अलग सा में.....गगन शर्मा
"फूँक-फूँक कर कदम रखना।"
पिछले रविवार, एक स्टूल से उतरते समय अपने कदमों को जमीन पर रखने से पहले फूंकना भूल गया और पैरों के बजाए कमर के बल फर्श पर लंबायमान हो गया।  इस क्रिया के दौरान हाथों ने पैरों की नाफ़र्मानि को सुधारने की कोशिश की होगी, पर जिसका काम उसी को साजे वाली कहावत को ध्यान में नहीं रख पाए होंगे और बस आका को बचाने की कोशिश में खुद को चोटिल कर बैठे....



"सुधिनामा में..आशा लता सक्सेना
“सम्वेदना की नम धरा पर” फैली काव्य धारा विविधता लिए है | 
साधना की ‘साधना’ लेखन में स्पष्ट झलकती है | 
बचपन से ही साहित्य में रूचि और 
कुछ नया करने की ललक उसमें रही 
जो रचनाओं के माध्यम से समय-समय पर प्रस्फुटित हुई |


"शान्तम् सुखाय में...भागीरथ कनकानी
बच्चे खो रहें हैं अपना बचपन
अब वो नहीं खेलने जाते
मैदानों में, पार्कों में, गलियों में,
अब वो देखने नहीं जाते
दशहरे, नागपंचमी, गणगौर
के मेले में


"सरोकार में...अरुण रॉय
बड़ा बनिया
देता है उधार में
अनाज, तेल, हथियार
पंडित नहीं कराता पूजा
उधार में



और ये रही आज की प्रथम कड़ी



"मेरी जुबानी में.....सुधा सिंह
उम्र अभी कच्ची है मेरी ,
श्रम इतना मुझसे होता नहीं।
मुझे मेरा स्कूल बुलाता है,
क्यों तुम्हे सुनाई देता नहीं।


देखे हैं ख्वाब कई मैंने ,
हौसलों की मुझमे ताकत है।
पोछा बरतन मत करवाओ,
कुछ बन जाने की चाहत है।


इसी के साथ आज्ञा दे दिग्विजय को


 










5 टिप्‍पणियां:

  1. सभी प्रस्तुतियाँ एक से बढ़ कर एक ! मेरे काव्यसंग्रह''सम्वेदना की नम धरा पर', की समीक्षा को सम्मिलित करने के लिये आपका आभार दिग्विजय जी ! बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...