पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

203..."समझ सके तो समझ ज़िन्दगी की उलझन को...

जय मां हाटेशवरी...

आप का...
फिर लाया हूं आप के लिये...
आनंद का एक और अंक...
"समझ सके तो समझ ज़िन्दगी की उलझन को...
सवाल इतने नहीं हैं जवाब जितने हैं..."

कल  खिड़की  के  शीशे   पर  पड़ी  ओस  की  बूँदें  को
जब  सूरज  की  किरणे   छू  जायेंगी 
तो    हमारे   पास   भी
बेमोल    मोतियों   का   खजाना   होगा..
और    जब  बादलों  रोयेंगे 
अपने    चाँद  से    बिछड़ने   वक़्त   कल   सुबह
तब 
उस  प्रेम  भरी  बारिश  में  तुम  बागीचे  में  नहा  लेना .....

s400/6977612-crazy-donkey-or-mule
               

बेवकूफ आदमी
आदमी के सहारे
आदमी को फँसाने
की तिकड़मों को
ढो रहे होते हैं
समझदार के देश में
गाँधी पटेल नेता जी
की आत्माओं को
लड़ा कर जिंदा
आदमी की किस्मत
के फैसले हो रहे होते हैं
जमीन बेच रहा हो
कौड़ियों के मोल कोई
इसका यहाँ इसको
और उसका वहाँ उसको
इज्जत नहीं लुट रही है
जब इसमें किसी की
और मोमबत्तियों को
लेकर लोगों की सड़कों
में रेलमपेल के खेल
नहीं हो रहे होते है


कुछ लोग ही जानते हैं
इनकी महिमा से हैं परिचित
अडिग रह कर इन पर
लम्बी  दूरियां नापते हैं
कठिनाई होती है क्या
ध्यान नहीं  देते 
लक्ष्य तक पहुँच ही जाते है
भाल गर्व से होता उन्नत
तभी महत्त्व है  इनका

s320/teardrop-falling-from-eye
चाँद का दर्द कौन समझा है,
सुब्ह चुपचाप घर गया होगा।
न कुछ हमने कहा न था तूने,
दास्ताँ कौन गढ़ गया होगा।


s320/%25E0%25A4%2589%25E0%25A4%25AA%25E0%25A4%25A8%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25AF%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25B8%2B%25E0%25A4%2595%25E0%25A4%25B5%25E0%25A4%25B0
वन्दना गुप्ता ने अपने उपन्यास 'अँधेरे का मध्य बिंदु ' में इसी विषय को बहुत समग्रता से व्याख्यायित किया है. इसके हर पहलू पर प्रकाश डाला है. कोई भी रिश्ता ,प्रेम ,आपसी
विश्वास ,समझदारी और एक दूसरे को दिए स्पेस पर आधारित हो, तभी सफल हो सकता है . इस उपन्यास के नायक-नायिका के दिल में जब प्रेम प्रस्फुटित होता है तो वे इस
सम्बन्ध को आगे ले जाना चाहते हैं पर विवाह के बंधन में नहीं जकड़ना चाहते .बल्कि सिर्फ प्रेम और विश्वास को आधार बना 'लिव इन ' में रहते हैं. एक दूसरे के ऊपर
कोई बंधन नहीं है, अपने किसी कार्य के लिए कोई सफाई नहीं देनी , घर खर्च और घर के कार्य में बराबर की हिस्सेदारी है .फलस्वरूप उनका सम्बन्ध सुचारू रूप से बिना






हँसते हँसते सब दे डाला , अब इक जान ही बाकी है !
काश काम आ जाएँ किसी के, इच्छा है ,दीवानों की !
रहे बोलते जीवन भर तुम,हम किससे फ़रियाद करें !
खामोशी का अर्थ न समझे,हम फक्कड़ मस्तानों की !
सूफी संतों ने सिखलाया , मदद न मांगे, दुनिया से !
कंगूरों को, सर न झुकाया, क्या परवा सुल्तानों की !

 
जो इक ख़ुदा नहीं मिलता तो इतना मातम क्यूँ
मुझे खुद अपने कदम का निशाँ नहीं मिलता
धन्यवाद।

4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    सुन्दर रचनाएँ पढ़वा रहे हैं आज
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. यहाँ आकर बहुत अच्छा लगता है
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर हलचल प्रस्तुति । आभार कुलदीप जी 'उलूक' के सूत्र 'गधों के घोड़ों से ऊपर होने के जब जमाने हो रहे होते हैं' को स्थान देने के लिये

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर और रोचक लिंक्स..आभार मेरी रचना को भी शामिल करने का...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...