पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 4 फ़रवरी 2016

202.......ज़िंदगी ट्रेन लड़की चाय

आप सभी को संजय भास्कर का नमस्कार
पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग में आप सभी को का हार्दिक स्वागत है !!
अब पेश है...मेरी पसंद के कुछ लिंक

वह एक किताब थी ,
किताब में एक पन्ना था ,
पन्ने में हृदय को छू लेने वाले
भीगे भीगे से, बहुत कोमल,
बहुत अंतरंग, बहुत खूबसूरत से अहसास थे ।
आँखे बंद कर उन अहसासों को
जीने की चेष्टा कर ही रही थी कि
किसीने हाथ से किताब छीन कर
मेज़ पर पटक दी ।
सुधिनामा ब्लॉग पर .....साधना वैद 

ट्रेन डब्बा मुसाफिर जिंदगी
तेज धीमी रफ़्तार समय
भागते हांफते आराम
बैठे तो रेत जैसे जिंदगी
हथेली किसी के हाथ में
फिसल जाता है...
पथ का राही पर....... मुसाफिर  

हॉस्टल लाइफ, ज़िंदगी जीने दो
हॉस्टल। एक सख्त वॉर्डन। छोटे छोटे कमरे। कमरों में एक-दो तख्त सरीखे बिस्तर।
एक छोटी सी आलमारी। किताबों का कोना। घर से लाए आचार का डिब्बा।
नमकीन, मठरी, जिन्हें खाते ही मां की याद आ जाए।
 खट्टी मीठी यादें। गंदा कॉमन टायलेट। तमाम शिकायतें।

वर्षा ब्लॉग पर ...........वर्षा 

नहीं बिखरते परिवार
अगर घर के
छोटे-मोटे झगड़े
सुलझ चाए,
घर में ही।
मन का मंथन ब्लॉग पर .....कुलदीप ठाकुर 

उदास डाल पर
श्वेत पंखुड़ियों ने
अवतरित हो कर
रिसते दर्द को
थाम लिया... !!
समूचा वातावरण जमा हुआ था
अनुशील ब्लॉग पर ......अनुपमा पाठक 


इसी के साथ ही मुझे इजाजत दीजिए अलविदा शुभकामनाएं फिर मिलेंगे अगले गुरुवार

-- संजय भास्कर

6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    वाह भाई संजय वाह
    बढ़िया व संतुलित प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात...
    सुंदर व सार्थक चर्चा....

    उत्तर देंहटाएं
  3. राह पकड़के एक चला जा ,पा जाइयेगा मधुशाला ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर सूत्रों का चयन संजय जी ! मेरी रचना को आज की हलचल में सम्मिलित करने के लिये आपका हृदय से आभार !

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...