पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 3 फ़रवरी 2016

201.....डर संक्रमण का है

सादर अभिवादन
आज फिर अतिक्रमण कर रहा हूँ
डर संक्रमण का है
संक्रमित हो गया गर तो...

चलिए रचनाओं की ओर.....

शिशिर का संकेत देती वादियाँ
मौसम की रंगीनियाँ सिमटी यहाँ
सैलानी यहाँ वहां नजर आते
बर्फबारी का आनंद उठाते
स्लेज गाड़ी पर फिसलते
बर्फ के खेलों का आनंद लेते

आज से पहले मुझे इतनी बैचेनी कभी नही हुई...
आज उसके ख़त का दूसरा दिन था...
रात भर ना जाने कितने ही ख़्यालो में
खोई रही,तुम्हारे खत के आज से,

जब विहँसे अवदात कौमुदी 
मुकुलित कुमुदों के आँगन में 
तुम मुझसे मिलने आना प्रिय 
उज्ज्वल तारों के प्रांगण में 
मैं वहाँ मिलूंगा लेकर बाहों का गलहार सखी रे 

दुनिया को दिखाने को 
कि बापू आज भी हमारी यादों में हैं 
जबकि असलियत तो ये है कि 
आप उनकी यादों में नहीं 
सिर्फ जेबों में रह गए हैं 
नोटों पर छपी रंगीन तस्वीर बन कर 



"लिख लिक्खाड़ में",,,रविकर भाई
पढ़ो वेदना वेद ना, कम कर दो परिमाण |
रविकर तू परहित रहित, फिर कैसे निर्वाण ||

मुश्किल मे उम्मीद का, जो दामन ले थाम |
जाये वह जल्दी उबर, हो बढ़िया परिणाम ||


ये रही आज की प्रथम कड़ी..


"एहसासों का सागर में"...भाई मुकुल
कहना चाह कर भी .....
कहना भूल गया!
शोर सुना इतना की ...
सुनना भूल गया! 
चुप रहना सिख कर ......
चुप रहना भूल गया!
इंसानों की बस्ती में
इंसान चुनना भूल गया!!

आज्ञा चाहता हूँ..
मैं रहूँ या न रहूँ

नई-जूनी रचनाओँ का
सिलसिला जारी रहेगा
सादर
दिग्विजय









8 टिप्‍पणियां:

  1. वाह...
    हो तो गया संक्रमण
    बिना कहे आकर प्रस्तुति बना दिए
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात...
    क्या बात है...
    चुनकर मोती लाए हैं...
    आभार आप का...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर लिंक के साथ सार्थक चर्चा
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुप्रभात
    उम्दा चर्चा| मेरी रचना शामिल की धन्यवाद सर

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरेया

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर लिंक्स ... आभार काव्यसुधा को शामिल करने के लिए

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...