पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 23 जनवरी 2016

जयंती



सुभाष चंद्र बोस जीवनी के लिए चित्र परिणाम


आज मृत्यु से शायद पर्दा उठ जाए
दस्तावेज से रहस्य बेपर्दा होने को है



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष








गुड मॉर्निंग

युवती उठी, अपना जैकेट कंधे पर डाला और उनके निकट आकर बोली,
 “खुल्ली हवा और हँसी हेल्थ विच गुड होंदीये, होर आप तो इन्ने हेण्डसम हो,
 बुड्ढों जैसे कपड़े क्यों पेने ओ?”
युवती ने उत्तर की प्रतीक्षा नहीं की
और खिलखिलाती हुई पार्क से निकल गई।


रचनात्मकता को बढ़ाएं

अनुकूल परिस्थितियोँ के होने का
इन्तजार करने के बजाय
स्वयं को बदलकर परिस्थितियोँ को
अपने अनुकूल बनाएं।


ज्ञ से ज्ञानी

वर्णमाला का अंतिम वर्ण,
और संयुक्ताक्षर कहलाया।
कुछ लोग मेरा उच्चारण,
'ग्य' करते जैसे विग्यान,
तो कुछ लोग मेरा उच्चारण,
'ज्न' करते जैसे विज्नान।


तुम और मैं

मैं जीवन पथ पर संघर्ष कर लौटता ,
निराशा की एक ठंडी सी सांस छोड़ता,
तुम आशा का झट से निर्मल जल ले आती,
और सांत्वना भरे हाथों से स्वयं पिलाती,
फिर साडी के पल्लू से श्रम स्वेद पोंछती,



कहानी के पीछे

मैं, सबसे बाहर, सिर्फ़ अपने पैरों की उंगलियों के
अगोर के मुहाने कांपता खुद को ख़बरदार करता कि
जिस बिंदु सब हेरा जाये, तुम लम्‍बी सांस खींचकर वहां से
 कहानी शुरु करना. हेराये की लम्‍बी दूरी खींच निकालो
फिर तब कहीं उनींदे में आंख खोलकर खुद से
पूछना, उपन्‍यास कहां शुरु होगा.



छुपाता फिरता हूँ

सारे दोस्त शहर खाली कर चले
गैरों से ये बात छुपाता फिरता हूँ
सबके पीने की वजह अलग
अपनी सबसे छुपाता फिरता हूँ



एक खास तरह का प्यार

खुश करने के लिये बस मैं ही हूँ,
अब खुद की तकलीफ से मजे से लड़ सकती हूँ।
मुझे किसी को जवाब नहीं देना
क्योंकि मैं किसी की अमानत नहीं।
अपनी उलझनें सुलझाने में मुझे अब कम वक्त लगता है
क्योंकि मुझे किसी का इन्तज़ार नहीं रहता।
 मैं बिल्कुल मैं हूँ और बहुत आसान है ये प्यार।



सुभाष चंद्र बोस जीवनी के लिए चित्र परिणाम

खून से मिली आजदी मिट्टी में ना मिल जाए

हम फिर मिलेंगे ..... तब तक के लिए ..... आखरी सलाम

विभा रानी श्रीवास्तव

10 टिप्‍पणियां:

  1. वाह..
    शुभ प्रभात दीदी
    सही व सधी हुई प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!
    नेताजी को सादर श्रद्धा सुमन!

    उत्तर देंहटाएं
  3. देश का नेता कैसा हो,सुभाष चंद्र बोस जैसा हो
    खूब मेहनत करके बढ़िया पोस्ट तैयार की आपने। बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नमन है...इस महान नेता को...
    कुछ चरित्र ऐसे हैं...
    जो मुझे बहुत प्रीय हैं...
    जिन में नेता जी भी एक हैं...
    आभार आंटी आप का...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह! दीदी,बहुत सुंदर पोस्ट,,,
    सुभाष जी जैसे महान नेता को मेरा शत शत नमन
    अब इस रह्स्य से पर्दा उठना ही उठना चाहिये
    ये समय की माँग है |

    उत्तर देंहटाएं
  6. Sundar sanyojan :) Deri ke liye kshama aur meri post ko sthan dene ke liye bahut dhanyewaad... Niyamit rahungi yahan.. :)

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...