पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 16 जनवरी 2016

नेट बैंकिग


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

बिहार में चूड़ा दही का पर्व था कल
पहले जैसे ना खाने वाले रहे ना खिलाने वाले
हमेशा के लिए याद में है


मेरा गाँव

पतंगे कट कर बच्चों के लिए गिर रही होंगी।
मिट्टी तेल वाली ढ़िबरी से फैलती हुई
जबरदस्ती की रौशनी अंधेरों से पस्त हुई मालूम होती होगी।
कोई किताब है जो पढ़ते-पढ़ते छूट गई होगी और
उसके अधखुले पन्ने पर एक चींटी रेंग रही होगी।


जब काटा गया हाथ

मैं हल्के बेहोशी मैं थी और उन्होनें
मेरे हाँथ की नश काट डालने का प्रयास कर डाला
और कहा कि मर गयी तो कह देंगें होगा
किसी के साथ चक्कर-मक्कर |
बाद में बदनामी भी ब्याज में,बहुत बढ़िया


दर्द के साथ में

और गहरे  ...  देखता हूँ
ख़ीज की चिपकी हुई काई है
कुंठा की सूखी हुई पत्तियाँ हैं
फूँस का ढेर सुलग रहा है निरंतर
तड़प है जलन है तपन है इस दर्द के साथ में


दंगा बन रहा देश का नासूर

धर्म जाति के नाम पर हम, क्यों करते हैं आपस में लड़ाई,
जाति धर्म समुदाय अलग है, खून तो सबका एक है भाई।
सोचो एक बार सब मिलकर, कितनी मुश्किल से मिली आज़ादी,
आपस में लड़कर के हम, कर रहे हैं देश की बर्बादी।



तुम साथ हो

वहाँ ऊपर कहीं चाँद भी खफ़ा था
मेहफ़ूज़ बस कुछ अभी तक ही था
जुस्तजू शुरू इस बात पर हुई
कि कम्बख़्त आहें कब से चोर हो गयीं
बेदाग़, कमज़र्फ दागदार कब से हो गयीं


चिराग़ कहाँ रौशनी कहाँ

आधुनिकता से परहेज नहीं ....
लेकिन परिवार बिखरने का कारण बनना
फैशन हो गया है

जरा बच के

नेट बैंकिंग

सावधानी हटी दुर्घटना घटी जैसी बात

हम फिर मिलेंगे ....... तब तक के लिए
आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव




6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    यादगार प्रस्तुति
    आभार..
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार! मकर संक्रान्ति पर्व की शुभकामनाएँ!

    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. #
    "पांच लिंकों का आनन्द में"
    "दर्द के साथ में" रचना को स्थान देने के लिये ह्रदय से आभारी हूँ
    आपका यह स्नेह वतसल आशीर्वाद भाव मेरे लिए उत्साह का संचार करता रहेगा
    सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...