पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 28 जनवरी 2016

195 तलाशते है फिर.....मेरे शब्द तुम्हे :)

आप सभी को संजय भास्कर का नमस्कार
 पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग में आप सभी का हार्दिक स्वागत है !!
अब पेश है...मेरी पसंद के कुछ लिंक 

छोड़ आया हूँ कुछ नगमे
साहिलों पर तेरे नाम से
शाम छुपा कर रख दिया है
वही रेत की ढेर में
कुछ पत्थर उगा आया हूँ
वहाँ आस पास

सिमटी यादें
सपने हों गर आँखों में तो आंसू भी होते हैं
अपने ही हैं जो दिल में ज़ख्मों को बोते  हैं |

मन के आँगन में बच्चों  का बचपन हँसता है
सूने नयनों से लेकिन बस पानी रिसता  है |

तलाशते है फिर..मेरे शब्द तुम्हे...!!!
तलाशते है फिर..
मेरे शब्द तुम्हे...
तुम नही हो,तो
कुछ लिखते ही नही...
यूँ कि हर बार शब्द पिरोते थे,
सिर्फ तुम्हे....
कि तलाशते फिर..
मेरे शब्द तुम्हे....

भरी आँखें रुलायेंगी तेरी,  ताजिन्दगी मुझको ,
तुम्हारी याद के संग आयेगी शर्मिंदगी मुझको !

हमें अरसा हुआ दुनियां के मेलों में नहीं जाते
सहज रहने नहीं देगी, तेरी मौजूदगी मुझको !

माँ का तर्जुबा
रह-रहकर मेरी आँखों में झाँकता रहा,
मेरे चेहरे की उदासियों को पढ़ता
फिक्र की करवटें बदलता कभी,
फिर सवालों की बौछार भी करता
पर मेरी खामोशियों का वाईपर,
जाने कब उन्‍हें एक सिरे से
साफ कर देता

और अंत में मेरी एक प्रस्तुति मैं बस जीना चाहता हूँ :))
उड़ जाना चाहता हूँ मैं
खोल के बाहें अपनी
थामना चाहता हूँ मैं
सारे आसमान को,
मैं बस उड़ना चाहता हूँ


इसके साथ ही मुझे इजाजत दीजिए अलविदा शुभकामनाएं फिर मिलेंगे अगले गुरुवार

-- संजय भास्कर

13 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन प्रस्तुति
    ख्यातिनाम रचनाकारों का रचनाएँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    बेहतरीन लिंको पर चर्चा

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन । आभार मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन । आभार मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शोभ दोपहर...
    सुंदर लिंक चयन...
    भाई संजय जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  7. रचना को सम्मान देने के लिए शुक्रिया संजय ..... मंगलकामनाएं आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे वाह!! ये तो बहुत अच्छा तरीका है अच्छी रचनाओं से रूबरू कराने का।

    मैं भी लिखने कोशिश कर रहा हूँ। मेरी कविताओं को पढ़कर देखिये । और टिप्पणी के माध्यम से मेरा मनोबल बढाइये । https://manishpratapmpsy.blogspot. com पर आप सादर आमन्त्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अरे वाह!! ये तो बहुत अच्छा तरीका है अच्छी रचनाओं से रूबरू कराने का।

    मैं भी लिखने कोशिश कर रहा हूँ। मेरी कविताओं को पढ़कर देखिये । और टिप्पणी के माध्यम से मेरा मनोबल बढाइये । https://manishpratapmpsy.blogspot. com पर आप सादर आमन्त्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. अरे वाह!! ये तो बहुत अच्छा तरीका है अच्छी रचनाओं से रूबरू कराने का।

    मैं भी लिखने कोशिश कर रहा हूँ। मेरी कविताओं को पढ़कर देखिये । और टिप्पणी के माध्यम से मेरा मनोबल बढाइये । https://manishpratapmpsy.blogspot. com पर आप सादर आमन्त्रित है।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...