पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 18 जनवरी 2016

185......शीतल कर दे मेरी डगर

सादर अभिवादन
देखते ही देखते
वर्ष दो हजार सोलह के
सत्रह दिन बीत गए
ये दिन भी न
बड़े करामाती हैं
अथकित हैं..
बीतते हैं..जरूर
वापस नहीं आते
यादों के मानिन्द..
येल्लो.... 
मैं तो लिखने ही बैठ गई...
चलिए चलें आज के सूत्रों की ओर...


तुम्हें याद है 
हर शाम क्षितिज पर   
जब एक गोल नारंगी फूल टँगे देखती  
रोज़ कहती -   
ला दो न   
और एक दिन तुम वाटर कलर से बड़े से कागज पे  
मुस्कुराता सूरज बना हाथों में थमा दिए,  

बहती नदिया गजल गाती है
बागों में कोयल ग़ज़ल गाती है
साँझ ढले जब प्रीतम घर आए
गौरी की अँखियाँ ग़ज़ल गाती है।

तपते सहरा में
चली हूँ अकेली मैं, 
जब छाँव भरी बदली 
ढक ले मेरे राह  को
शीतल कर दे मेरी डगर,
तब तुम मत आना। 


ज़िन्दगी क्या है तू ??
दर्द और संघर्ष से रिश्ता बचपन से रहा था
उसे पता तो था कि ज़िन्दगी के कई आयाम 
खिली धूप की सुनहरी चमक से हैं 


कविता मंच में.......संजय कुमार गिरि
सूरत बदल गई कभी सीरत बदल गई।
इंसान की तो सारी हक़ीक़त बदल गई।

पैसे अभी तो आए नहीं पास आपके,
ये क्या अभी से आप की नीयत बदल गई।


और ये रही आज की प्रथम कड़ी

अनिर्मित पथ में..रंजना जायसवाल
योद्धा थी मेरी माँ 
उसने सिर्फ अपनी लड़ाई नहीं लड़ी
लड़ी हम भाई बहनों के साथ ही 
बहुतों की भी लड़ाई
हमेशा ढाल की तरह

आज्ञा दें..
जाती है यशोदा
लौट कर आने ले लिए




चित्र सभी..गूगल बाबा के पिटारे से









5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात दीदी...
    सुंदर हलचल...
    एक नयं हलचलकार का आगमन...
    दो सौएं अंक तक संख्या 7 होनी चाहिये...
    आभार दीदी आप का...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    सुन्दर लिंको के साथ शानदार चर्चा ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया प्रस्तुति । अब लिखने बैठ ही गई थी तो लिखते भी चली जाती अच्छा नहीं होता क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...