पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 7 जनवरी 2016

173...साल सोलवां आ गया जीवन में फिर से इक बार

सादर अभिवादन
आज संजय भाई नहीं हैं
सो आज मेरी प्रस्तुति..

मैं एक काफिर हूँ 
हां! तुम्हारे लिए मैं एक काफिर हूँ, 
यद्यपि कि मैं मानता नहीं किसी को 
सिवा एक ईश्वर के मैने कभी सर नहीं झुकाया 
किसी बुत के सामने 


काश कि तुम्हारी बेटी होती तुम्हारा बेटा होता 
क्या होता है उन्हें खोने का दर्द तुम्हें पता होता -
जीवन की शाम का खौफ, टूटी बैसाखी का ड़र 
तुम्हें भी मालूम होता जो तेरा चिराग बुझा होता -


सुनो !!
मैं सारी जिंदगी
करवाना चाहता हूँ
रूट केनाल ट्रीटमेंट !!
बत्तीसों दाँतों का ट्रीटमेंट
जिंदगी भर ! लगातार !


साल सोलवां आ गया जीवन में फिर से इक बार
ये तो हो गया हम सब के साथ फिर से इक चमत्कार
आ जाओ कर लें मस्ती फिर से इक बार
तन को छोड़ो भर लो उंमग मन में फिर से इक बार


बिन तुम्हारे हमारा दिल बेकरार  है
न जाने क्योँ  हमें  तेरा  इंतज़ार है

गुनगुनाते  गीत अब  होंठों पे मेरे
अभी तक मुस्कुराती शब का खुमार है 


नितीश तिवारी के ब्लॉग में
कुछ तो खता कर दी मैंने मोहब्बत निभाने में, 
जो तुमने देर ना की पल भर में मुझे भुलाने में। 
खुदा की जगह तेरा सज़दा किया मैंने सुबह-ओ-शाम, 
पर तेरी दिलचस्पी नहीं थी इस रिवाज़ को निभाने में। 




और ये रही आज की अंतिम कड़ी
गोपाला ने अपना एक झोला और बैग लिया और ट्रेन में बैठ गया, 
ये ट्रेन दुर्ग से जगदलपुर जा रही थी। गर्मी के दिन थे, 
उसे खिड़की के पास वाली सीट मिली ।
ट्रेन चलने लगी तो भागते हुए तीन युवक आये 
और ठीक उसके सामने वाली सीट पर बैठ गए ।
................
इस अनुनय के साथ









9 टिप्‍पणियां:

  1. मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात छोटी बहना
    उम्दा परस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  4. meri kahani ko shamil karne ke liye aapka dil se shukriya .
    aapka aabhar aur dhanywaad
    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  5. आभार "काफिर" को शामिल करने हेतू .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभप्रभाद दीदी...
    सुंदर हलचल...
    आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बढ़िया हलचल ,मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...