पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

रविवार, 3 जनवरी 2016

169...ऑक्सफ़ोर्ड और श्रीमद्भगवद गीता


जय मां हाटेशवरी...

नई आशाओं और नए सपनों के साथ पूरे धूम धाम से साल 2016 का आगाज हो गया है...
हम कामना करते हैं कि नव वर्ष का हर दिन आप सब के लिये केवल खुशियों  भरा हो...
नया सवेरा नयी किरण के साथ...
नया दिन एक प्यारी सी मुस्कान के साथ...
आपको नया साल मुबारक हो ढेर सारी दुआओं के साथ...
 पांच लिंकों का आनंद पर मैं कुलदीप ठाकुर 2016 की शुरूआत करते हुए पेश है आज की हलचल...

प्यार की कोई वज़ह न थी
कह रहे हैं...Girish Billore  जी...
हिंदी कैलेण्डर की तो बरसी मनाते हैं हम भारतीय
सत्य ही तो कहा     हैं...ZEAL  जी...
 उल्टा चोर कोतवाल को डांटे
 मेरे दिल की बात में... Swarajya karun...
Opinion -- दो सरकारें, दो एजेंडे, दो रुख और दो परिणाम
Rambilas Garg जी...  का ये लेख अवश्य पढ़ें...
 ऑक्सफ़ोर्ड और श्रीमद्भगवद गीता
Raravi जी...की कलम से निकली एक विचारणीय रचना...

समय कम है...
पंचायत चुनाव का दौर है...
व्यस्त न होते हुए भी व्यस्त हूं...
आनन-फानन में यही बन सका...
धन्यवाद।

 

3 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    काम जिसे बहुत रहता है
    वे उस जरुरी काम को करते हुए भी
    अन्य काम को निपटाते चलते हैं
    आप कभी भी कहीं भी
    अक्षम नहीं हैं भाई कुलदीप जी
    प्रस्तुति का अंदाज
    है...लाजवाब
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...