पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 2 जनवरी 2016

168..हिन्द - युग्म




सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

नव प्रवाह / धनक का धमक / जीत का ज्वल
हिय हर्षित / नीति रीति उज्ज्वल / जीव विह्वल
छटा कोहरा / जगी दबी उम्मीदें / आस निहारे 
स्वप्न धवल / ख्यालों-मुंडेरों सजे / वर्ष नवल


देखो पुराने ये कैलेण्डर

है वक्त की कोई शरारत या गई फ़िर उम्र ढ़ल
आते नहीं पहले सरीखे अब मजे त्यौहार के

गिरमिटिये बनकर तब गये थे सात सागर पार हम
पर हैं बने हम बंधुआ अब अपनी ही सरकार के

गया और नया साल


आये नींद सुनकर गीत,
किसी बेदर्दी की प्रीत,
या कि चुटकी का संगीत,
वर्तमान सा अतीत।
शायद ऐसा ही था वो गया साल।।


स्वागत है नव वर्ष तुम्हारा


नवल वर्ष की स्वर्ण रश्मियों
से हो धरा गगन आल्हादित
विश्व समूचा दिग दिगंत तक
हो हर्षित , प्रमुदित , उत्साहित


'चलो नये साल में प्रवेश करें'

हमें हर वक्त कुछ नया चाहिये
तो नया साल क्या बुरा है
हम सभी नये साल की ओर लपकेगें
निचोड़ लेंगे उसका नयापन भी
भर देंगे उसमें वो ही उदासी, पीड़ा और वो
तमाम खामियाँ जो हमनें बीते बरस कमाई थी


नयी दिशा,नयी उड़ान

पिछला जो अच्छा है ,उसको साथ लेकर चलना
पिछला जो बुरा था, उसको नये साल में भूलना

नये सपनों के साथ हो तेरी नयी उमंगे
जीवन डोर वही पुरानी पर उड़ाओ नयी पतंगे



मोबाइल भूकम्प

सांस भी ना लूँ भाई..
तब समझ आया
नया दिन है
नया साल है
मगर नया कुछ् नहीं
वही बुरा हाल हैं


नया वक़्त!

नया जीवन
नयी परिस्थितियां
नयी रौशनी
नया वक़्त

नया साल नहीं
नयी सोच ला सकती है
नया नजरिया ला सकता है


फिर मिलेंगे ........ तब तक के लिए
आखरी सलाम



विभा रानी श्रीवास्तव




5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    नया जीवन
    नयी परिस्थितियां
    नयी रौशनी
    नया वक़्त

    नया साल नहीं
    नयी सोच ला सकती है
    नया नजरिया ला सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात...
    सुंदर लिंक संयोजन...
    आभार आंटी आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...