पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

गुरुवार, 31 दिसंबर 2015

वर्ष 2015 की अंतिम प्रस्तुति चर्चाकारों की कलम से...166

आप सभी को संजय भास्कर का नमस्कार
 पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग में आप सभी का हार्दिक स्वागत है !!
आज पेश है वर्ष 2015 की अंतिम प्रस्तुति
हम हर दिन पांच रचनाकारों की बेहतरीन रचनाएं चुन कर आप तक पहुँचते है कल यूँ ही बैठे बैठे मैंने सोचा क्यों आज पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग के चर्चा कारों की रचनाये पढ़वाई जाये 
तो ये लो आज पेश है चर्चाकारों के कलम से निकली कुछ बेहतरीन रचनाये उम्मीद है आप सभी को पसंद आये !

पेश है यशोदा अग्रवाल जी की रचना  :)
लोग भी कमाल करते हैं 
यूं तो
बेरंग हैं पानी 
फिर भी जिन्दगी 
कहलाती हैं,

ढेर सारे रंग हैं 
शराब के फिर भी 
गन्दगी कहलाती हैं।।

लोग भी कमाल करते हैं…



 विभा रानी श्रीवास्तव जी की रचना :)
उड़ेगी बिटिया
नीतू भतीजी , डॉ बिटिया महक , प्रीती दक्ष , स्वाति , मोनिका 
संग
बहुत सी बिटिया 
रब ने दिलाई
कोखजाई एक भी नहीं
ना इनमें से किसी से 
मेरा गर्भनाल रिश्ता है !


 कुलदीप ठाकुर जी की रचना :)
जिंदगी की किताब...
हर जिंदगी
भी शायद
किसी लेखक की
लिखी हुई
किताब होती है...
पर हम
नहीं जान पाते
अपनी किताब के
लेखक को
न पढ़ पाते अगले पन्ने...


 दिग्विजय अग्रवाल जी की रचना :)
किसी के इतने पास न जा
के दूर जाना खौफ़ बन जाये
एक कदम पीछे देखने पर
सीधा रास्ता भी खाई नज़र आये
किसी को इतना अपना न बना
कि उसे खोने का डर लगा रहे
इसी डर के बीच एक दिन ऐसा न आये

और अंत में मेरी रचना मैं अकेला चलता हूँ :)
मैं अकेला चलता हूँ 
चाहे कोई साथ चले 
या न चले 
मैं अकेले ही खुश हूँ 
कोई साथ हो या न हो 
पर मेरी छाया
हमेशा मेरे साथ होती है !
शब्दों की मुस्कुराहट ............संजय भास्कर 


इसके साथ ही मुझे इजाजत दीजिए अलविदा 2015..... फिर मिलेंगे अगले गुरुवार 2016 में 

-- संजय भास्कर 



9 टिप्‍पणियां:

  1. Good morning my dear Sanjay,
    Thank you very much.
    Happy new year
    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात भाई संजय
    काफी से अधिक सुन्दर
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. पाँच लिंकों का आनन्द ही अनोखा है ।
    5 चर्चाकार = पाँच लिंक।
    लोग तो पढ़ेंगे ही।
    नव वर्ष की मंगलकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. kuldeep thakur
    vibha rani Shrivastava
    yashoda Agrawal
    Digvijay Agrawal
    संजय भास्‍कर
    ---
    पाँचों को नव वर्ष की मंगलकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सर आप को भी नव वर्ष 2016 की असंख्य शुभकामनाएं...

      आप का आशीष आने वाले वर्षों में भी हमे मिलता रहे गा...
      इस आशा के साथ
      --
      कुलदीप ठाकुर।

      हटाएं
    2. आपके शुभकामनाओं के हम आभारी हैं
      दुआ है आपके लिए भी मंगलमय हो

      सादर

      हटाएं
  5. शुभ प्रभात
    सस्नेहाशीष पुतर् जी
    सार्थक प्रस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  6. समस्त ब्लाग परिवार को नव वर्ष 2016 की ढेरों शुभकामनाऐं

    उत्तर देंहटाएं
  7. Arrrre waaaah bht hi umda chayan or prastuti.....
    Aap sabhi ko nav varsh ki anant mangal kamnayen
    ...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...