पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

गुरुवार, 31 दिसंबर 2015

166....वर्षान्त अंक


आज वर्ष का अंतिम दिन है और गुरुवार भी है
भाई संजय जी की प्रस्तुति आज ही आनी है

मुझे आज कुछ अलग सा करने का मन लगा
सो आज दो अंक एक घण्टे के अंतराल में 

क्यों आज पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग के चर्चा कारों 
के अलावा अन्य चर्चा कारों की रचनायें भी पढ़वाई जाये 
तो आज पेश है चर्चाकारों के कलम से निकली 
कुछ बेहतरीन रचनायें....

नए वर्ष में शपथ, मरे नहीं मित्र दामिनी-
ताड़ो नीयत दुष्ट की,  पहचानो पशु-व्याल |
मित्र-सेक्स विपरीत गर, रखो अपेक्षित ख्याल |


बीत गया जो साल, भूल जाएं उसे
इस नये साल के गले लगाएँ
करते हैं दुआ रब से
सर झुकाए
इस साल के सपने पूरे हों आपके


आँख शरारत करती है 
और सज़ा दिल पाता है 
देता मक़सद जीने का 
पर पागल कहलाता है 
पागल की सुन यार मेरे, यही तो मीत है


भू-नभ में फहराए पताका,
गर्वित गाथाएँ चर्चित हों।
दूर सभी हों भव-भय-बाधा,
खिलता सुमन सदा हर्षित हों।
राष्ट्रयज्ञ में अर्पित होकर,
करना माता का वन्दन!
नये वर्ष का अभिनन्दन!


सब में हो देश-भक्ति,
दे भवानी मां  सब को शक्ति,
लोकतंत्र हो, सुशासन हो,
आने वाले नव वर्ष में....


प्यासी जल में सीपी
भूल जाओ पुरानी बातें ....... 
माफ़ कर दो सबको ..... 
माफ़ करने वाला महान होता है ...... 
सबके झुके सर देखो ..... 


वह सह रही है असहनीय
पीड़ा कुछ
दरिंदो की दरिंदगी का
भीड़ में खड़े है
लाखो लोग पर मदद का हाथ
कोई नहीं बढाता


प्रेम के रिश्‍ते 
निभते जाते हैं 
इन्‍हें निभाना नहीं पड़ता 
कोई रहस्‍य 
कोई पर्दा 
नहीं ढक पाता है 
इसके होने के 
वज़ूद को !


मेरे पसंदीदा अश्आर में, शिवम् मिश्रा
माँ का चश्मा
टूट गया है
बनकर शीशा
इसे बनाओ

चुप-चुप हैं आँगन में बच्चे
बनकर गेंद
इन्हें बहलाओ



स्त्री नारी होती नहीं 
बनाई जाती है. 

हम सबको 
अब यह संकल्प लेना होगा 
कि अब और नहीं..
कतई नहीं, 
अब किसी इन्द्र के 
पाप का दण्ड 
अब किसी भी 
अहिल्या को 
नहीं भुगतना पड़ेगा 

हम पाँच लिंकों के आनन्द की ओर से
सभी चर्चाकारों का सम्मान करते हुए
उन्हें नववर्ष की शुभकामनाएं प्रेषित करते हैं
आज के इस अंक का सुझाव 
आदरणीय भाई संजय भास्कर ने दिया
और रचना संकलन में भाई कुलदीप सिंह ठाकुर ने
अपना सहयोग दिया
आभार...
अलविदा 2015











10 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया अंक । समस्त ब्लाग परिवार को नव वर्ष 2016 की ढेरों शुभकामनाऐं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आभार आपका | नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाऐं ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज हम सब...
    2015 को सहहर्ष अलविदा कह देंगे...
    प्रवेश कर जाएंगे ेएक और नव वर्ष में...
    हर बार यहीं करते करते

    हम 2016 में प्रवेश करेंगे...
    वर्ष के अंत में बिना भेदभाव के...
    सभी चर्चाकारों को संमानित करना...
    एक अच्छी सोच का परिणाम ही है...
    आभार दीदी आपका...

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभ प्रभात छोटी बहना
    सस्नेहाशीष

    उम्दा सोच

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Wishing my dearest friends great beginning to...
      "Twenty Sixteen (2016)"....
      Feel Twenty & Look Sixteen....😉

      हटाएं
  5. आभार आपका|नव वर्ष 20156 की ढेरों शुभकामनाऐं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    सभी चर्चाकारों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  7. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार संजय भाई
      सम्पर्क नहीं होता
      तो हेर-फेर
      हो ही जाता है
      सम्पर्क गर
      हो जाता
      तो अंक
      अविस्मरणीय बन जाता
      सादर

      हटाएं
  8. मंगलमय नववर्ष, होय शुभ सोलह आना


    कुण्डलियाँ
    सोलह आना सत्य है, है अशांति चहुँओर |
    छली-बली से त्रस्त हैं, साधु-सुजन कमजोर |
    साधु-सुजन कमजोर, आइये होंय इकठ्ठा |
    उनकी जड़ में आज, डाल दें खट्टा-मठ्ठा |
    ऋद्धि-सिद्धि सम्पत्ति, होय फिर सुखी जमाना |
    मंगलमय नववर्ष, होय शुभ सोलह आना ||

    दोहा
    मंगलमय नव-वर्ष हो, आध्यात्मिक उत्कर्ष ।
    बढे मान हर सुख मिले, विकसे भारत वर्ष ॥

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...