पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 29 दिसंबर 2015

164........मेरा ईमान न पूछो क्या हूँ

सादर अभिवादन स्वीकारें
पहले रचनाएँ पढ़ें
बातें फिर बाद में...

इंटरनेट पर युद्ध की शुरुआत हो चुकी है । 
कार्पोरेट वार। अपने अपने फायदे के लिए । 
मजे की बात है कि विरोध की खबर के नीचे 
समर्थन पाने का विज्ञापन भी छपा है । 



मेरा ईमान न पूछो क्या हूँ, 
हिन्दू या कि मुस्सलमान न पूछो। 
चर्च, मंदर, मस्जिदें ....सब एक बराबर 
रहता किसमे है मिरा भगवान न पूछो. 


यह जमाने की बेरूखी और हम।
कितना भी प्रेम कर लो हर किसी से।
लेकिन हर बार सिर्फ मिलते है…
गम ही गम॥


दिसंबर का आखिरी सप्ताह ......
बरसात के बाद हवाओं के रुख में 
परिवर्तन से ठण्ढक के साथ 
घना कुहरा समाप्त होने का नाम ही नहीं ले रहा था । 


जिन की भाषा में विष था
उनके भीतर कितना दुःख था
दुखों के पीछे अपेक्षाएँ थीं
अपेक्षाओं में दौड़ थी
दौड़ने में थकान थी
थकान से हताशा थी
हताशा में भाषा थी

हमारा भारत विज्ञान में सबसे आगे था
अाज की अंतिम कड़ी में देखिए


अब छोड़ो भी में
हाल ही में मेरठ के छात्र प्रियांक भारती और गरिमा त्यागी द्वारा तैयार एक शोधपत्र को चीन के अंतर्राष्ट्रीय जैव प्रौद्योगिकी सम्मेलन के लिए चुना गया है। और यह शोध अमेरिका की इनोवेटिव जर्नल ऑफ मेडीकल साइंस के आगामी अंक में छपने जा रहा है। 
प्रियांक भारती और गरिमा त्यागी ने अपने प्रयोग में 
रक्तबीज को कपोल कल्पना मानने से इंकार करते हुए बताया है कि रक्तबीज कोई चमत्कार नहीं बल्कि अति विकसित विज्ञान का एक उदाहरण था जो सबसे पहला Clone कहा जाता है। 

आज्ञा दें यशोदा को
फिर तो मिलते रहेंगे ही








6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...
    ठंड आवश्यक्ता से अधिक...
    इस लिये ब्लौग से थोड़ा दूर...
    सुंदर लिंक चयन है दीदी आप का...
    अंतिम रचना पढ़कर मन आनंदित हुआ...
    आभार आप का...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर लिंक संग्रह ..... आभार मेरी रचना को स्थान देने के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर लिंक संग्रह ..... आभार मेरी रचना को स्थान देने के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...