पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 14 दिसंबर 2015

149....साईं ने सरल मन से कहा, "मेरा नहीं? ले जाओ!"

सादर अभिवादन
एक बार फिर
उपस्थिति मेरी
क्या करूँ
निभाना तो पड़ेगा
आधा अंग जो हूँ

आज की पसंदीदा रचनाओं की एक झलक..











की जाना मैं कौन में
अब गाँव वालों को बड़ी ग्लानि हुई. 
बच्चा किसी और का, 
और हम ने यूँ ही साईं पर झूठा इलज़ाम लगाया! 
बच्चे के माता पिता और गाँव वाले मिल कर साईं  पहुंचे, 
उन्हें सारी बात बताई, और बच्चा ले जाने की बात कही. 
साईं ने सरल मन से कहा, "मेरा नहीं? ले जाओ!" 


मेरे गीत ! में
कैसे कैसे लोग यहाँ पर 
हिंदी के मार्तंड कहाए !
कुर्सी पायी है मस्के से 
सुरा सुंदरी,भोग लगाए !
ऐसे राजा इंद्र  देख कर , हंसी उड़ायें मेरे गीत !
हिंदी के आराध्य बने हैं,कैसे कैसे लोभी गीत !


आहुति में
कितना कुछ लिखा....पढ़ा है...
मैंने इस साल में.......
कभी तुम्हारी परछाई बनी रही,
कभी देर तक बैठ कर तुमसे बाते की,
कभी-कभी तो...
मैं तुम्हारी जिंदगी में...


जिन्दगी में
कि
सुलग रही हैं आजकल
खामोशियाँ मेरी
और
जलने के निशान ढूँढ रहे हैं
जिस्म मेरा


सपने में...
जिंदगी के
इस सफर में 
भीड़ का हिस्सा नहीं हूँ 
गीत हूँ मै, 
इस सदी का
व्यंग का किस्सा नहीं हूँ.



और आज की अंतिम झलक
मेरी संगिनी के ब्लाग से


नहीं जानती क्यों
अचानक सरसराती धूल के साथ
हमारे बीच
भर जाती है आंधियां
और हम शब्दहीन घास से
बस नम खड़े रह जाते हैं

आदेश की प्रतीक्षा
साग्रह..सादर
दिग्विजय











5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात पुतर जी
    उम्दा लिंक्स चयन

    उत्तर देंहटाएं
  2. अति सुंदर...
    पुनः आप की अगली हलचल की प्रतीक्षा रहेगी...
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. Sirf ek baat - Sindh =, Punjab aadi pradeshon mein, "Sai" kidi bhi fakir ke liye upyukt kiya jaane vaala shabd tha. Meri mansha ise Shirdi ke Sai baba ke saath joDne ki nahi thi. Maine ye kahaani shayad Sindhi Lok kathaaon mein suni thi. Us bhasha mein "Sai" aam bol chaal ka shabd hai.

    Bhool sudhaar. Sindh se baahar ke log ye nahi jaante honge!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...