पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

गुरुवार, 3 दिसंबर 2015

मन, मौसम, पेड़, बेखयाली और चिट्ठी ..... 138

आप सभी को संजय भास्कर का नमस्कार
एक बार फिर हाजिर हूँ आपके साथ तो लुत्फ उठाइए कुछ प्यार भरी रचनाओं का  मेरे साथ:))

प्रेम के वैज्ञानिक लक्षण .........मुकेश सिन्हा 
जड़त्व के नियम के अनुसार ही, वो रुकी थी, थमी थी,
निहार रही थी, बस स्टैंड के चारो और
था शायद इन्तजार बस का या किसी और का तो नहीं ?

अच्छे से जानते हैं वो ............वंदना गुप्ता 
सूखे खेत चिंघाड़ते ही हैं
निर्विवाद सत्य है ये
फिर क्यों शोर मचा रही हैं
आकाश में चिरैयायें

मन, मौसम, पेड़, बेखयाली और चिट्ठी....... शचीन्द्र आर्य
कहीं कोई होगा, जो इस मौसम की ठंडक
को अपने अंदर उतरने दे रहा होगा।
 कोई न चाहते हुए भी ऐसा करने
को मजबूर होते हुए
खुद को कोस रहा होगा।

ठूँठ................शुभ जी 
  हाँ ..... ठूँठ हूँ मैं
 आते-जाते सभी लोग
 लगता है जैसे चिढ़ाते हुए निकल जाते मुझे
 भेजते लानत मुझ पर
 कहते - कैसा ठूँठ सा खड़ा है यहाँ

पापा की हथेलियों में ... ...सदा जी 
पापा की हथेलियों में होते मेरे
दोनो बाजू और मैं होती हवा में
तो बिल्‍कुल तितली हो जाती
खिलखिलाकर कहती

यही शून्यता राह है तेरी.........राहुल जी 
मैं सिर्फ
एक आदमी भर का
सवाल नहीं
एक शक्ल भी नहीं,
किसी समंदर में डूबे बुलबुलों का
गुच्छा भी नहीं

एक साँप के प्रति...........निहार रंजन 
बात बस इतनी सी थी
कि उसने अपनी टाँगे मेरे टाँगों पर रख दी थी
और सोचा था
कि जैसे नदी ने अपने में आकाश भर रखा है

मुस्कुराएगा जो सदा........शिवनाथ कुमार
वह तमाशबीन नहीं बना रहा
औरों की तरह
उठा और चढ़ गया आसमां पर
बन कर सूरज चमकने लगा !

-- संजय भास्कर


4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात संजय भाई
    अच्छी रचनाओॆ से परिचित करवाया आपने
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut salo bad blogg par ana huwa bhia... ek bar fir apko padh ke wo purane din yad agaye.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...