पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 16 नवंबर 2015

121...पेरिस में भी पसारा पैर आतंकवाद ने

आज से दो दिन पहले फ्रांस के शहर पेरिस में
आतंकवादों ने 153 निर्दोष लोगों की हत्या की...
तो पूरा विश्व उस घटना की भर्त्सना करने लगा
और इस तरह के हमले तो भारत में होते ही रहते हैं
और शेष विश्व कानों मे तेल डाल कर बैठा रहता है
लोग ये समझते हैं कि.... 
भारत तो देवभूमि है....सहनशील है और दयालु भी है...

सभी राजनीतिज्ञों को पता है.....??
ये आतंकवाद आया कहां से..??
कौन है सूत्राधार..??.....पर वे चुप हैं..??
टूटेगी चुप्पी भी!..तब तक आतंकवाद
विशाल बरगद का रूप ले लेगा



चलिए चलते हैं आज की चुनिन्दा रचनाओ की कड़ियां देखने..


ग्रेविटॉन में...
अभिनेता ही नायक है अब
और वही खलनायक
जनता के सारे सेवक हैं
पूँजी के अभिभावक


रचना रवीन्द्र में..
खुश हूँ अच्छे दिन आए हैं 
सदियों से झुग्गी बस्तियों में बसने वाले 
सडान बदबू में रहने वाले 
नाले नालिओं में पनपने वाले
अब नहीं रहते हैं वहां.
बदल गया है बसेरा 
आयें है अच्छे दिन 


सपने में...
फेसबुकी दीवाली..फेक का अंग्रेजी अर्थ है धोखा व फेस याने चेहरा, दुनिया में आभाषी दुनिया का चमकता यह चेहरा एक मृगतृष्णा के समान है जो आज सभी को प्यारा मोहित कर चुका है. नित्य समाचार की तरह सुपरफास्ट खबरे यहाँ मिलती रहती है.कहीं हँसी के ठहाके


मधुर गुंजन में....
सच्ची भक्ति...
''आंटी, आप मंदिर जा रही हैं|" नेहा के हाथों में पूजा की थाल देखकर रहमान ने पूछा|
वह अभी अभी उसके बेटे प्रबोध के साथ आया था|
''हाँ बेटे, पूजा करके आती हूँ|"
जब वह मंदिर से लौटी तो उसने देखा कि रहमान अपने बैग के पास बैठा था और बैग के खुले मुँह से पिस्तौल झाँक रही थी| एकबारगी सिहर गई नेहा| बेटे का मित्र था इसलिए कुछ कह नहीं सकती थी


उच्चारण में...
हो गये उलट-पलट, वायदे समाज के,
दीमकों ने चाट लिए, कायदे रिवाज़ के,
प्रीत के विमान पर, सम्पदा सवार है।
तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।


प्रतिभा की दुनियां में..
लौटकर आने पर ताला खोलते वक्त ऐसा नहीं लगता कि यहां किसी को मेरा इंतजार नहीं था। मानो इस घर के कोने-कोने को मेरा इंतजार रहता है। घर के पर्दे, दीवारें, खिड़कियां, सोफे पर आधी पढ़कर छूटी हुई किताब, दरवाजे के बाहर लगा अखबारों का ढेर...पानी के लिए पड़ोसी की छत पर पहुंचाये गये पौधे...सुबह दाना खाने आने वाली चिड़िया, कबूतर, तोते...सब तो बाहें पसारे इंतजार करते मिलते हैं।


सुधिनामा में
बिल्कुल सम गति सम लय में
समानांतर उड़ रहे थे दोनों,
मधुर स्वर में चहचहाते हुए
कुछ जग की कुछ अपनी
एक दूजे को सुनाते हुए
बड़े आश्वस्त से पुलकित हो   
उड़ रहे थे दोनों !

चलती हूँ..आज्ञा दें....

कुछ नेता
कुछ मीडिया वाले
कुछ सभ्रांत लोग
निन्दा कर रहे हैं
भर्त्सना कर रहे हैं
कोस रहे हैं
आतंक वाद को....
और सलाखों के
अन्दर उनके साथी
सरकार के 
खर्चे पर..
शराब और बिरियानी
के साथ...ज़श्न मना रहे हैं
मन की उपज
-यशोदा


















6 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर लिंक्स ! मेरी प्रस्तुति को इन चयनित सूत्रों में सम्मिलित करने के लिये आपका आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर हलचल ..........
    मेरी नयी पोस्ट पर आपके आगमन की प्रतीक्षा है |

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/2015/11/mitti-ke-diye.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभप्रभात दीदी,
    सही कहा है आपने...
    सुंदर लिंक चयन...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी कड़ियाँ, मुझे भी शामिल करने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...