पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 13 नवंबर 2015

118........इक बार मुस्करा दो

सादर अभिवादन...
आज की प्रस्तुति
तसल्ली से....

सुनो ,
रूको, ठहरो दो पल और,
क्या करू? ये आँखें ना जाने
कब तृप्त होंगीं, कब छूटेगी
उस मोह से जो बँधा हैं तुमसे,
यकीन हैं, मर कर भी इस रूह में
प्यास रहेंगी बाकि, तेरे दीदार की; 

ये रही आज की चुनिन्दा रचनाओं की कड़ियाँ...


मन के - मनके में...
बदरंग हो रहे हैं हम-क्या हम जीवन को जीते हैं???
बहुत ही बे-तुका प्रश्न हो सकता है—लेकिन थोडा ठहर कर देखिये उस आइने में जिसे हम जीवन कहते हैं?


डॉ. हीरालाल प्रजापति में
नगीने सा मेरे दिल की 
अँगूठी में जड़ा था वो ॥ 
मेरे माथे की बिंदी था , 
कलाई का कड़ा था वो ॥ 


आकांक्षा में
आये अकेले इस जग में
जाना कब है पता नहीं है
पर अपनाए गए रिश्तों को
बिना विचारे ढोते ही जाना है


गिरीश पंकज में
दीपक उदास है क्यों, इक बार मुस्करा दो 
''ये जल उठेंगे तुम जो, इक बार मुस्करा दो'' 
खुशिया जो बांटते हैं धरती के हैं मसीहा
यह बात थोड़ी समझो, इक बार मुस्करा दो 


दिव्याश में
द्वेष कलुष की कालिख पोंछो
मंगल ध्वनि बजाओ
आँगन गलियों चौबारों संग
दिल में दीप जलाओ


सुबोध सृजन में..
रखना एक दिया
इस दिवाली पर
अंधे मन के आले में
कि हो कुछ उजाला
देख सकें
मसली-रौंदी कलियों की लाशें


चलते-चलते..... 
उल्लूक टाईम्स में नाक कथा
नाक बहुत काम 
की चीज होती है 
सभी जानते है 
पहचानते हैं 
नाक के बिना 
बनाया हुआ पुतला 
भी एक नकटा 
कहलाया करता है 


आज्ञा दें यशोदा को..
फिर मिलेंगे












5 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    आज दूज है और दीपावली पर्व का समापन |हार्दिक शुभ कामनाएं |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति । NAAC कथा को स्थान दिया 'उलूक' आभारी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभप्रभात...
    सुंदर रचनाओं का संकलन...
    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!
    भैया दूज की शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...