पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 8 अक्तूबर 2015

ख़ुद देख लीजे करिश्मा ख़ुदी का...पृष्ठ बियासी में

अभिवादन स्वीकारें दिग्विजय का

कबर को देख के ये रंज होता है “दोस्त”,
बस इतनी सी जगह के लिए मरना पड़ा…

इससे जियादा 
तो था 
हमारे पास
जब हम 
ज़ीवित थे....
ये रही आज की कड़ियाँ....


ना इसका हूँ 
ना उसका हूँ 
क्या करूं 
इधर भी हूँ 
उधर भी 
रहना ही रहना है


वो चल रही थी
अपनी धुरी पर...
वो चलती रही... 
युगों युगों से है जल रही 
हमें शीतलता देने को
वो ख़ुशी ख़ुशी जलती रही... 


जिन्दगी जीना
कोई दीपक से सीखे 
कब तलक डाले रहेगी रात डेरा
देखना इक रोज आयेगा सवेरा
जिन्दगी जीना कोई दीपक से सीखे
खुद जला पर दूर कर डाला अँधेरा



कभी कभी पराई मां भी
एक पुत्र को
उसकी जननी से भी
अधिक प्रेम करती है
पर उसका  सदा ही
केकयी सा ही अनादर होता है...


अजब  रंग  है  आपकी  दोस्ती  का
कि  एहसास  होने  लगे  बेबसी  का

शबे-वस्ल  तो  बख़्श  दीजे  ख़ुदारा
ये  मौक़ा  नहीं  है  मियां  दिल्लगी  का


ग़जल नुमा कहानी
वो हमसफ़र था मगर उससे हमनवाई न थी
कि धूप छाँव का आलम रहा जुदाई न थी...


इनायत गर नहीं होती किसी की
तो बदकारी न मर जाती कभी की

तेरी ख़ुदग़र्ज़ियां मुझको पता हैं
सबब यह है, नहीं जो बतकही की



आज यहीं तक...
आदेश दें दिग्विजय को...

सादर














6 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर गुरुवारीय अंक । आभार दिग्विजय जी 'उलूक' के सूत्र 'ना इसका हूँ ना उसका हूँ क्या करूं इधर भी हूँ उधर भी रहना ही रहना है' को जगह देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात...
    सभी सुंदर लिंकों के साथ मुझे भी खपा दिया...आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर लिंक संयोजन

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह बहुत खूब। बहुत ही सुंदर प्रयास। बधाई आपको।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...