पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 5 अक्तूबर 2015

विंड चाइम की घंटियों सी...बजी अंक उन्यासी में

आज भाई संजय जी को प्रस्तुति देनी थी
वो शायद तैयारी नहीं कर पाए होंगे
चलिए कोई बात नहीं...


ये रहे वो सूत्र जो मुझे पसंद आए...


विंड चाइम की घंटियों सी
किचन से आती
तुम्हारी खनकती आवाज का जादू
साथ ही, तुम्हारा बनाया
ज्यादा दूध और
कम चाय पत्ती वाली चाय का
बेवजह का शुरुर !!


मैंने इश्क़ के लिए अपने शहर के दरवाज़े बंद कर दिए हैं. हमेशा के लिए. हालांकि 'हमेशा' एक खतरनाक शब्द है कि जिसके इस्तेमाल के पहले दास्ताने पहनने जरूरी होते हैं वरना लिखे हुए हर शब्द में एक 'finality' आ जायेगी. कि जैसे अंतिम सत्य लिखा जा चुका हो. 


वो स्‍नेह है 
आपकी अनमोल यादों का 
जिसे मैने अपने सिर-माथे लिया है 
और आपको अर्पित ही नहीं 
समर्पित भी किया है अंजुरी का जल


देखती आई हूँ बरसों से
अपनी ही प्रतिमा में कैद
महात्मा को धूप धूल
चिड़ियों के घोसले
और बीट से सराबोर,


पढ़े लिखे खबर वालों 
को सुनाना खबर 
अनपढ़ की बचकानी 
हरकत ही कही जायेगी 
खबर अब भी होती 
है हवा में लहराती हुई 
खबर तब भी होगी 
कहीं ना कहीं लहरायेगी 



बच्चों की ख़ुशी में ही माता-पिता की ख़ुशी 
हर माता-पिता अपने बच्चों को खुश देख कर खुश होते है। दुनिया में ऐसे 
कौन से माता-पिता है, जो अपने बच्चों को खरीदी करते देख, सुख-सुविधा से संपन्न होते देख खुश नहीं होंगे?


आज्ञा दें दिग्विजय को
सादर















9 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात दिग्विजय जी....मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात दिग्विजय जी....मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर हलचल सुंदर सूत्रों के साथ आभार दिग्विजय जी 'उलूक' के सूत्र 'लिखना सीख ले अब भी लिखने लिखाने वालों के साथ रहकर कभी खबरें ढूँढने की आदत ही छूट जायेगी' को जगह देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया लिंक्स-सह-हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर लिंक्स. आभार मेरी रचना को शामिल करने हेतु.

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुक्रिया इस शीर्षकके लिए
    और मेरे ब्लॉग को शामिल करने के लिए ........

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर सूत्रों के साथ सुंदर हलचल .........आभार दिग्विजय जी

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...