पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2015

क्या -क्या अपने साथ ले गए...अंक नब्बे

संजय जी की प्रस्तुति 
कल आप सभी ने 
देखा ही होगा
मैं सराहना करती हूँ

एक अजब सा 
संयोग.. बनता जा रहा है 
2015 में दो-दो उत्सव 
एक साथ हो रहे हैं
इस माह...एक दिन के फर्क में 
दशहरा और मोहर्रम 
लगभग साथ-साथ है
ईश्वर भी पक्षधर है
हिन्दू-मुस्लिम एकता का

चलिए चलते हैं पसंदीदा रचनाओं का ओर....


मैं पुष्प हूं
भावनाओं से युक्त
मुझे माली नहीं
कवि प्रीय है...
कवि  मुझे
कभी नहीं तोड़ता
न वो केवल
सौंदर्य ही देखता है...
वो  अक्सर
आता है 
पूछता है मुझसे
मेरे मन की बात...



मुल्तवी कर दिया है...
तुमसे कुछ कहना
कि पता है, सुनोगे नहीं
सुन जो लिया तो 
समझोगे नहीं


जब तुम गए मैने देख़ा ही नहीं 
क्या -क्या अपने साथ ले गए
अब मेरा बहुत सा सामान नहीं मिला रहा 
ज़्यादा कुछ नहीं बस दो चार चीज़े हैं 
मैने तुम्हें हर उस जगह पर तलाशा जहाँ तुम हो सकते थे
एक मेरा विश्वास; एक मेरी परछाई


“कुल मे है तो जाण सुजाण, फौज देवरे आई।'
“राजपूत का किसने आह्वान किया है ? किसकी फौज और किस देवरे पर आई है ?''
सहसा सुजाणसिंह के मन में यह प्रश्न उठ खड़े हुए । वह उठना ही चाहता था कि उसे फिर सुनाई पड़ा - 
‘‘झिरमिर झिरमिर मेवा बरसै, मोरां छतरी छाई।’’ 
कुल में है तो जाण सुजाण, फौज देवरे आई।”


धार्मिक विचारों और ग्रंथों के अनुसार रजस्वला स्त्रियां पहले दिन चंडालिनी, दूसरे दिन ब्रह्म घातिनी और तीसरे दिन धोबिन स्वरूपा होती है | इसके पीछे क्या तथ्य है? इसी वजह से पति के साथ एक कमरे में रहना भी वर्जित होता है| मजे की बात तो यह है कि जाप और ध्यान में कोई मनाही नहीं है|


तीसरे दिन माँ  चन्द्रघण्टा की आराधना 
तुम भक्तों की रख बाली हो ,दुःख दर्द मिटाने  बाली हो 
तेरे चरणों में मुझे जगह मिले अधिकार तुम्हारे हाथों में


महंगाई-महंगाई चि‍ल्‍लाने वालो पाकि‍स्‍तान चले जाएं
काजल कुमार..











इज़ाजत दें यशोदा को
फिर मिलूँगी

साज और सुर
चाहूँगा मैं तुझे सांझ सवेरे...दोस्ती














8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात....
    सुंदर लिंक चयन....
    मुझे भी पांच लिंकों में
    स्थान दिया आभार....
    दीदी आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  2. मान के लिए धन्यवाद ...सुन्दर सूत्र संकलन... बधाई ....:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर सूत्र संयोजन
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी रचना को स्थान देने का तहे दिल से शुक्रिया । बहुत सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुर्सी के कीड़ों ने फिर से ऐसा भड़काया हमको
    जिंदा है यह तो मगर हम अपनी जान गंवा बैठे
    खामोशियाँ साध ली देखो इन रहनुमाओं ने आज
    दहशतों मैं अफ़सोस इन्सानों को इन्सान भुला बैठे
    क्या खोया क्या पाया हमने इनकी रहबरी मैं यारो
    मस्जिदें तो आबाद हुई अफ़सोस ईमान भुला बैठे
    मंदिरों को बचाकर भी अफ़सोस भगवान भुला बैठे
    .........................................................MJ

    http://deshwali.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी प्रस्तुति
    लिंक चयन
    बेमिसाल होता
    बहुत कुछ सिखाना होगा मुझे

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...