पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 1 अक्तूबर 2015

विषमताओं से वो क्यूँ हो विचलित....अंक पिचहत्तर

एक दिन
परमात्मा ने
मुझसे कहा कि.....
तुम्हें सब
शिकायतें
मुझ ही से हैं...!!
.....
मैंने भी
सर झुका के
कह दिया कि..
मुझे भी..
सब उम्मीदें  तो
आप ही से हैं..

सादर अभिवादन.....
ये रही आज की रचनाओं की कड़ियाँ....


आज मन मे एक सवाल ने दस्तक दिया 
क्या है मेरी पहचान ? 
रसोई मे अच्छा खाना बनाना 
और फिर तारीफ सुन खुश हो जाना , 
या मेरा व्यवस्थित घर 
जिसे कभी अव्यवस्थित 
रखने की गुंजाइश नहीं , 


विषमताओं से वो क्यूँ हो विचलित
जब दूर चमकते चाँद का सर्वस्व...
धरा का है...


प्याज घोटाला।
आह! इत्ते दिनों के बाद किसी घोटाले की खबर सुनने को मिली। वरना, तो घोटाले की खबर सुनने को कान तरस गए थे। एकदम नई सरकार। एकदम नया घोटाला। घोटाला भी ऐसा कि सुनते ही आंखों में पानी आ जाए।... प्याज घोटाला।


लड़कियां
डरी-सहमी लड़कियां
चाहकर भी
मुहब्बत की राह पर
कदम नहीं रख पाती


अब भी तो कुछ रहम कर ऐ बेवफा ज़िन्दगी
दे रही किस बात की तू सज़ा ज़िन्दगी

सांस लेना भी क्या अब गुनाह हो चला है
हो रही क्या मुझसे यही खता ज़िन्दगी..



बहुत याद कर चुके मुझे  
अब बस करो  
अहिंसा  की  लड़ाई  मेरी थी  
लड़ी भी मैंने  
अब तुम कहते रहो  
शहीद  भगत सिंह  को  मै  
बचा सकता था 


शायरी से ज्यादा प्यार मुझे कहीं नही मिला..

ये सिर्फ वही बोलती है, जो मेरा दिल कहता है…!!!

आज्ञा दें यशोदा को
फिर मिलेंगे













2 टिप्‍पणियां:

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...