पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 4 सितंबर 2015

सॉरी, मगर, मैं सच कहती हूँ ये अड़तालीसवां अंक है

वो तो 
यह कह कर 
चली गयी कि 
मुझे कल से 
भूल जाना..
सदियों से 
मैं ”आज” को
रोक कर बैठा हूँ !!

सादर अभिवादन..

बिना किसी लाग-लपेट के
चलते हैं सीधे लिंक्स की ओर....



बहुत हो गया
‘उलूक’ रोना
ठीक नहीं
इंटरनेट के
बंद हो जाने पर
कितना खुश हुआ
होगा जमाना कल


ढलते ढलते एक आँसू, रुखसार पे यूँ जम गया 
बहते बहते वख्त का दरिया कहीं पे थम गया 

पल्कों पे आके ख्वाब इक यूँ ठिठक के रुक गया, 
नींद में जैसे अचानक, मासूम बच्चा सहम गया 


मन की लहरों को नहीं लिख पाई
जो लिख पाई
वो किनारे के पानी थे
या भीगी रेत के एहसास  … !
वो जो मन गर्जना करता है
उद्वेग के साथ किनारे पर आकर
कुछ कहना चाहता है
वह मध्य में ही विलीन हो जाता है


जिन्दगी और 
रेलगाड़ी... 
दोनों एक जैसी हैं | 
कभी तेज तो कभी 
धीमी गति से 
लेकिन चलती है | 


और ये रहा आज का अंतिम लिंक..


चमचों का, भक्तों का, सबका कहना है
नेक हज़ारों में मोदी अच्छा है
सॉरी, मगर, मुझे सच कहना है

विदा मांगती है यशोदा

पेश है भूले-बिसरे गीत...













3 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...
    सुंदर लिंकों के साथ अच्छी हलचल....
    आभार आप का।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति । आभार, 'उलूक' का सूत्र 'कल का कबाड़ इंटरनेट बंद होने से कल शाम को रीसाईकिल होने से टप गया' को जगह देने के लिये, यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल-सह-सुन्दर गीत प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...