पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 24 सितंबर 2015

अड़सठवें पन्ने में....ज्ञान दर्पण

सादर अभिवादन स्वीकार करें
सैकड़े से मात्र
अट्ठाईस कदम

दूरी पर है..
पाँच लिंको का आनन्द

चलिए चलते हैं आज की रचनाओं की ओर...


अधकचरा यानी अधूरा ज्ञान हमेशा हर जगह नुकसानदायक होता है और यह तब और ज्यादा नुकसान करता है जब अधूरे ज्ञान वाला स्वयंभू ज्ञानी शिक्षक, नेता, साधू के रूप में अपने अधूरे ज्ञान को अपने उद्बोधनों में बांटते फिरते है तथा लेखक आने वाली पीढ़ी के लिए अपने अधूरे ज्ञान के सहारे पुस्तकें लिखकर भ्रांतियां खड़ी कर देते है| 


जिन्दा रहे तो हमको कलन्दर कहा गया
सूली पे चढ़ गये तो पैगम्बर कहा गया 


जब से तुमसे मिली...
मैं प्रेम को लिखने लगी...
जब तुम्हारी आखों की,
गहराईयों में उतरी तो...
अंतहीन..अद्रश्य...
प्रेम को मैं लिखने लगी...


चलो अच्छा हुआ
आइनों ने ही 
तुमको तुम्हारा सच
समझा दिया



जा जा जा बेवफा, 
कैसा प्यार कैसी प्रीत रे
तू ना किसी का मीत रे, 
झूठी तेरी प्यार की कसम





ढूँढ रही हूँ इन दिनों
अपना खोया हुआ अस्तित्व
और छू कर देखना चाहती हूँ
अपना आधा अधूरा कृतित्व
जो दोनों ही इस तरह
लापता हो गये हैं कि
तमाम कोशिशों के बाद भी
कहीं मिल नहीं रहे हैं,


जब आप बीमार थे
तो कभी सोचा न था
यूँ चले जाओगे
और चले गए तो
आप इतना याद आओगे...


जुखाम बहुत है...
खांसी भी आ रही है

आँसू पोंछने वाले तो
बहुत मिलते हैं....
कंधो को छूते है

पीठ थपथपाते हैं
परन्तु.....
नाक पोंछने को
कोई नहीं आता....
आज्ञा दें यशोदा को

एक गीत आपने ऊपर सुना
एक गीत फिर सुनिए







8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...
    सुंदर लिंकों का चयन...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर सार्थक बढ़िया सूत्र चुने हैं आज यशोदा जी ! विलम्ब से आने के लिये क्षमाप्रार्थी हूँ ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति यशोदा ! मेरी रचना को यहाँ पर स्थान देने के लिये धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  4. sundar prastuti....meri kavita ko yahan sthan dene kay liye shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  5. sundar prastuti....meri kavita ko yahan sthan dene kay liye shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ...धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...