पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 14 सितंबर 2015

क्यों बनती है नारी ही नारी की दुश्मन...अंक अंट्ठावन

ये जो तुम 
बार बार हवा देते हो, 
तो ये यादों के 
पन्ने फड़फड़ाते हैं….!!
भूल जाने दो अब, 
क्यों मुझे 
बार बार 
जगा देते हो…..!!!
सादर अभिवादन....


क्यों बनती है नारी ही नारी की दुश्मन?
हम कहते है, नारी शोषित है, नारी पर बहुत अत्याचार होते है! लेकिन क्या नारी अत्याचार के लिए सिर्फ पुरुष वर्ग ही जिम्मेदार है? क्या नारी स्वयं नारी की दुश्मन नही बनती है? वास्तव में स्त्री-पुरुष का रिश्ता परस्पर पूरकता पर आधारित है| 


सुना है गिरना बुरा है 
देखती हूँ आसपास 
कहीं न कहीं, 
कुछ न कुछ 
गिरता है हर रोज़. 


किस्सा-ए-बदतमीज़ शाहज़ादा, पागल लड़की और नीली स्याही
इक दुष्ट शहजादा था...हाँ, वही...जिसने लड़की का दिल चुरा लिया था...इस बार वो उसकी नीली स्याही की दवात लिए भागा है...बताओ, शोभा देता है उसको...शहजादा होकर भी ऐसी हरकतें...उफ़...आपको कहीं मिले तो समझाना उसे...ठीक?


ऐ मेरे मन
किसी के कहने पर कुछ न कहना
किसी दूसरे की भावनाओ में न बहना
अपने भीतर के प्रकाश को कमजोर कर जाता है


चलता रहे सफ़र... !!
एक एक रंग
आपस में मिल कर 
अलग अलग पर्मुटेसन कॉम्बिनेसन में 
रच सकते हैं अनेक रंग


आज्ञा दें दिग्विजय को

आज घर,

घर नहीं बाजार हो गया
छोटी-बड़ी सालियों
और छोटे-बड़े बच्चों से
घर गुल-ए-गुलजार हो गया
सादर...
















9 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर प्रस्तुति दिग्विजय जी ।
    गजब है सालियों के आने से घर बाजार हो गया बता रहे हैं
    गुले ऐ गुलजार होने की बात कह कर कुछ तो छिपा रहे हैं । :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिग्विजय जी, मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिग्विजय जी, मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिग्विजय जी, मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिग्विजय जी, मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर लिनक्स का संयोजन. मेरी रचना को स्थान देने हेतु धन्यबाद.

    हिंदी दिवस पर आप सभी को अनेकानेक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...