पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 10 सितंबर 2015

आज से प्रारम्भ दो दिवसीय विश्व हिन्दी सम्मेलन ....चौपनवाँ पन्ना














आज मध्य प्रदेश की राजधानी, भोपाल में
विश्व हिन्दी सम्मेलन
का शुभारम्भ हो रहा है,
हिन्दी कवि एवं लेखक उत्साहित हैं
इस सम्मेलन में उन्हें बहुत अपेक्षाएँ हैं
और क्यों न हो...
स्वाभाविक है...
हिन्दी नैपथ्य में जा रही है
और उसका स्थान
हिंग्लिश लेता जा रहा है
जो कि सोचनीय है....

चलिए चलते हैं आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर...


अब आया हिन्दी सोशल नेटवर्किंग साइट ‘मूषक’
दसवें विश्व हिन्दी सम्मेलन में शिरकत करने आए पुणे के अनुराग गौड़ एवं उनके साथियों ने आज यहां ‘ट्विटर’ की तर्ज पर पूरी तरह हिन्दी में काम करने वाला ‘मूषक’ सोशल नेटवर्किंग साइट देशवासियों और हिन्दी प्रेमियों के लिए पेश किया है।
हिन्दी सोशल नेटवर्किंग साइट ‘मूषक’ के मुख्य कार्यपालन अधिकारी :सीईओ: अनुराग गौड़ ने बताया कि जहां ट्विटर पर शब्दों की समय सीमा 140 शब्द हैं, वहीं हमने मूषक पर इसे 500 रखा है। कम्प्यूटर अथवा स्मार्टफोन पर हिन्दी टाइप करना रोमन लिपि पर आधारित है, इसलिए लोग हिन्दी लिखने से कतराते हैं।


बचे  न   मुल्क   वह   चिराग   जलाए   रखिये ।
उन  लुटेरों  की  सियासत  को  चलाए   रखिये ।।

खा  गए  शौक  से  चारा  जो  मवेशी  का यहां।
उनकी खिदमत में इलेक्शन को सजाये रखिये।।


हे ! जगत के पालन हार
सुन्दर सृष्टि रचने वाले
बना दिया सब कुछ तुमने
तुमको लाख प्रणाम .


सबको सबसे आस मुसाफिर
कुछ तो खासमखास मुसाफिर
कहते अक्सर लोग उसी ने
तोडा है विश्वास मुसाफिर


नेकियों के लिबास से, ढक लो बदन तुम अपना 
भगवान के घर कपड़ों की दुकान नहीं है
रूह बदलती है यहाँ रोज घरौंदा
उसका कोई अपना मकान नहीं है |


सुधिजन हिन्दी टायपिंग को लेकर परेशान हैं
मेरे सिवा...
मैंने यूनीकोड को बाहर लिकलवा लिया है
ये सभी कम्प्यूटर व लैपटॉप पर मौजूद रहती है
मैं सीधे इनस्क्रिप्ट की बोर्ड से सीधे हिन्दी मे टाईप करती हूँ
कोई भी कम्प्यूटर का जानकार दो मिनट में बाहर ला देगा

अब आज्ञा दें यशोदा को...


सुनिए भूले-बिसरे गीत...












3 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर प्रस्तुति । हिंदी सम्मेलन की बधाई बंटेगी दूध की मलाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर पंचलिंक-हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...