पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 13 सितंबर 2015

१२२ साल पहले शिकागो मे हुई थी भारत की जयजयकार--अंक 57

जय मां हाटेशवरी...

आज  हिंदी को  भी...
अपने ही देश में...
पावन सीता की तरह...
अगनी परीक्षा देकर ही...
अपनी श्रेष्ठता का...
प्रमाण देना होगा क्या?...
नहीं नहीं अब नहीं...
 हिंदी अब...
रुकमणी बनकर...
अपना पथ खुद...
 बनाना जानती है...
अब चलते हैं...
आज के पांच लिंकों की ओर...



manoj sharma जी  कह रहे हैं...
अरे बाप रे बाप
हिंदी का महासम्मेलन  मध्यप्रदेश में आयोजित हुआ लेकिन सम्मलेन कम विरोधियो पर अपनी भड़ास निकालते हुए , नाकामयाबी और हताशा में चुनावी मंच समझ प्रधानमंत्री
बोलते नज़र आये ।क्या इसी तरह से हिन्दी को सम्मान दे रहे थे प्रधान मंत्री ? देश के गरिमामय पद पर विराजमान प्रधानमंत्री जी चुनावी मोड़ से निकल देश के प्रधानमंत्री
मोड़ में अभी तक नहीं आ पाए हैं ।अभी तक प्रधानमंत्री ने अपने मंत्रियो के बारे में कुछ न बोलने का प्रण लिया हुआ हैं ,बहुत अच्छी बात हैं आरोपी बनने से अच्छा
हैं की आरोपों को स्वीकार ही न करो देश की जनता को ज़बाब देने के बजाये विपक्ष को कोसते रहो पर कब तक चलेगा  आप की बात मन की बात कब तक ? प्रजा की बात कब ?


सुशील कुमार जोशी जी  कुछ अपने उसी अंदाज में  यूं कह रहे हैं...

दसवाँ हिंदी का सम्मेलन कुछ नया होगा सदियों तक याद किया जायेगा

विश्व का है
हिंदी का है
सम्मेलन बड़ा है
छोटी मोटी बात
से नहीं घुमायेगा
छोटा होता होगा
तेरे घर के आसपास
उसी तरह का कुछ
बड़ा बड़ा किया जायेगा
जमाना अंतःविषय
दृष्टिकोण का होना
बहुत जरूरी हो
गया है आजकल
एक विषय पर ही
बात करने से
दूसरे विषय का
अपना आदमी
कहाँ समायोजित
किया जायेगा

शिवम् मिश्रा  जी याद दिला रहे हैं...

१२२ साल पहले शिकागो मे हुई थी भारत की जयजयकार


स्पष्ट तौर पर मात्र एक भाषण ने ऐसी ज्योति प्रज्ज्वलित की, जिसने पाश्चात्य मानस के अंतर्मन को प्रकाश से आलोकित कर दिया और ऊष्मा से भर दिया। इस भाषण ने सभ्यता
के महान इतिहासकार को जन्म दिया। अर्नाल्ड टोनीबी के अनुसार- मानव इतिहास के इन अत्यंत खतरनाक क्षणों में मानवता की मुक्ति का एकमात्र तरीका भारतीय पद्धति है।
यहां वह व्यवहार और भाव है, जो मानव प्रजाति को एक साथ एकल परिवार के रूप में विकसित होने का मौका प्रदान करता है और इस परमाणु युग में हमारे खुद के विध्वंस
से बचने का यही एकमात्र विकल्प है।





Madan Mohan Saxena जी सुना रहे हैं...
सुन्दर हिंदी प्यारी हिंदी में प्रकाशित ग़ज़ल


उलझन आज दिल में है कैसी आज मुश्किल है
समय बदला, जगह बदली क्यों रिश्तें आज बदले हैं
जिसे देखो बही क्यों आज मायूसी में रहता है
दुश्मन दोस्त रंग अपना, समय पर आज बदले हैं



Virendra Kumar Sharma जी का कहना है...

अनादिकाल से सूर्य ओम (ॐ )का जाप कर रहा है

वैज्ञानिको का आश्चर्य वास्तव मे *समाधि* की उच्च अवस्था का चमत्कार था जिससे ऋषियों ने वह ध्वनि सुनी अनुभव की और वेदो के हर मंत्र से पहले उसे लिखा और महामंत्र
बताया |
ऋषि कहते है ये ॐ ध्वनि परमात्मा तक पहुचने का माध्यम है उसका नाम है |महर्षि पतंजलि कहते है *तस्य वाचक ? प्रणव * अर्थात परमात्मा का नाम प्रणव है , प्रणव
यानि कि ॐ |
प्रश्न यह उठता है कि सूर्य मे ही ये ध्वनि क्यूँ हो रही है ? इसका उत्तर *गीता * मे दिया गया है | भगवान श्री कृष्ण अर्जुन से कहते है -*जो योग का ज्ञान मैंने
तुझे दिया ,यह मैंने आदिकाल मे सूर्य को दिया था |* देखा जाए तो तभी से सूर्य नित्य-निरन्तर मात्र ॐ का ही जाप करता हुआ अनादिकाल से चमक रहा है |या जाप सूर्य
ही नहीं , सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड कर रहा है |

धन्यवाद...

4 टिप्‍पणियां:

  1. वाह....
    बहुत बढ़िया...
    शुभ प्रभात कुलदीप भाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति कुलदीप जी और आभार 'उलूक' का सूत्र 'दसवाँ हिंदी का सम्मेलन कुछ नया होगा सदियों तक याद किया जायेगा' को जगह देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...