पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 8 अगस्त 2015

अगस्त आजादी....इक्कीसवां अंक


अगस्त हम ना जाने कैसे भूल गए 
आजाद हिन्द का चर्चा करना भूले या जान बूझ के छोड़ गए
एक अकेला पोस्ट हो जिसमें केवल अगस्त आजादी के लिए हो





India Indian जो कहना है कहो फिरंगियों के कहने का हमें क्या परवाह
 हमें तो हिंद हिंदी का मान अभिमान हमेशा से रहा और हमेशा रहेगा


दुष्टान्न त्यागें
हिन्द मिट्टी का नशा
दुश्मनी भूलें



हिम मुकुट
सिंधु त्रि पाँव धोये
हिन्द नेमत




शून्य का मान
रश्मियाँ भू चूमती
हिन्द की शान




हर हिन्दू विवेकानन्द और हर मुस्लिम हो कलाम
हो जाए न कमाल का हिन्द
खूबसूरत सपना है
स्वप्न ही तो हम हिन्दुस्तानियों की ताकत है



पांच का मन्त्र
मुट्ठी बना जीत लेते जहां हैं हम

फिर मिलेंगे तब तक के लिए आखरी सलाम



विभा रानी श्रीवास्तव




5 टिप्‍पणियां:

  1. दीदी
    शुभ प्रभात
    बहुत ही शानदार पसंद है आपकी
    दुर्लभ को सुलभ करवाया आपने आज
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा हा बहुत खूब बहुत बढ़िया परिवार अंक । बहुत सुंदर सूत्र संयोजन ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. India ko asli naam de do---BHARATVARSH .. Hamari vividhta me ekta tou panchvi sadi se hai, chhoti chhoti riyaste , kitne dharam, ek dharam me kitne khand, sadhu mahatma sabhi dharmo me aur kitni hi bhasha ,, kitne videshi hamle aur haar seh ke bhi aaj fir se Mahaan .

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय आंटी...
    सुंदर हलचल मचाती हलचल।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...