पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 17 अगस्त 2015

माल बढ़िया लगे तो मुफ्त उड़ा लो यारो.... अंक तीसवां

सादर अभिवादन....
देखते ही देखते
एक माह व्यतीत हुआ

आप सभी के सहयोग से
इस ब्लाग ने एक माह की
उम्र पा ली है....


नहीं मांगती ऐ खुदा कि,
जिंदगी सौ साल की दे !
दे भले चंद लम्हों की,
लेकिन कमाल की दे ….!!

चलिये चलें लिंक की ओर...


कमरा खाली…
मैं अकेली…… 
आँखें भरी भरी
और दिल भारी


आजु बतकही राजनीति कै, 
जहिकी बातन कै ना छ्वार
पूरे देश म एकुई पट्ठा, 
चारिउ तरफ रहा ललकार!!


दूरी है
और है वो
पास भी...
कितने
छली हैं
ये एहसास भी...


माल बढ़िया लगे तो मुफ्त उड़ा लो यारो 
कौन मेहनत करे, हराम की खा लो यारो !

इसे लिख के कोई दुष्यंत मर चुका यारो  !
उसकी शैली से ज़रा नाम कमा लो यारो ! 


न डोंगरी न तमिल न कन्नड़ 
न ही अरबी उर्दू या फारसी 
न हिंदी संस्कृत या रोमन 
कोई भी तो मेरी भाषा नहीं 


कल रात ही मद्रास से लौटी हूँ
तीसवीं प्रस्तुति का मोह 
नहीं छोड़ पाई....

आज्ञा दीजिए यशोदा को

और सुनिये ये गीत..
















2 टिप्‍पणियां:

  1. बधाई एक माह पूरे होने की चलता रहे कारवाँ जुड़ते रहें लोग । सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया लिंक्स-सह हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...