पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 3 अगस्त 2015

लक्ष्य पर चमकते निशान बनो तुम.... सोलहवाँ अंक

आज सातवां दिन है
और आज ही राष्ट्रीय शोक का समापन भी है
क्या हम इनको भूल जाएँ...
कदापि नहीं,,,

सफ़र में मुश्किलें आयें, तो जुर्रत और बढती है ,
कोई जब रास्ता रोके , तो हिम्मत और बढती है....

चलिये चलते हैं आज की पसंदीदा लिंक्स का ओर....



आप अपना भविष्य नहीं बदल सकते 
पर आप अपनी आदतें बदल सकते है 
और निश्चित रूप से आपकी आदतें
आपका फ्यूचर बदल देगी।


ज़िंदगी में कठिनाइयां हैं तो क्या 
लक्ष्य पर चमकते  निशान बनो तुम 


खिले सुमन
सजा हर बदन
सुरभित पवन
पंछी मगन
हर्षित जन-जन
धरा पुजारन  
मुग्ध नयन
अश्रु जल से
धोये चरण
करे अर्पण
निज जीवन धन


अचानक 
कोई और बोला 
गिद्धों को देख कर 
नये सीख रहे हैं 
गिद्ध हो जाना 
ये चले भी जायेंगे 
कुछ दो चार सालों में 
नये उग जायेंगे गिद्ध 


झुकना तो चाहिए
भगवान के सामने धन्यवाद में
किसी के सम्मान में
किसी के प्यार में
कृतज्ञता बोध में
अनुग्रह में
पर ये अकड़ी रहती है
अहंकार में


तुम तो मुझे रुलाकर दूर चले गये..
मै किससे पूछूँ मेरी खता क्या है..

चलती हूँ....
आज्ञा दीजिए यशोदा को
फिर मिलते हैं न...




















7 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर सावन की सुंदर सोलहवीं प्रस्तुति । आभार यशोदा जी 'उलूक' के सूत्र 'गिद्ध उड़ नहीं रहे हैं कहीं गिद्ध जमीन पर हो गये हैं कई' को आज के पाँच सूत्रों में आपने जगह दी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत-बहुत धन्यवाद यशोदा जी मेरी रचना को आज की पांच लिंक्स में सम्मिलित करने के लिये ! अन्य सभी सूत्र भी अत्यंत उत्कृष्ट एवं पठनीय हैं ! आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं

  3. ​बहुत हीं सुन्दर सूत्रों का संकलन.... मान देने के लिए धन्यवाद ​....:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर सूत्रों से सजी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर सूत्रों से सजी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मेरी कविता शामिल करने के लिए बहुत धन्यवाद आभारी हूँ.
    अच्छी कविताओं का संग्रह पड़ने मिल रहा हैं यहाँ पर धन्यवाद।
    indumukho.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...