पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

रविवार, 30 अगस्त 2015

ये बंधन तो अटूट है...-43 अंक


जय मां हाटेशवरी...

हर वर्ष  रक्षाबंधन के दिन...
 मुझे बहुत याद आती हैं...
वो बहनें...
जिन्होंने मुझे उस वक्त राखी बांधी...
जब मैं छात्रावास में...
घर से बहुत दूर था...
उस वक्त मुझे बहुत आवश्यक्ता थी...
उनके अपने पन की...
भली ही आज  उनकी राखी मुझ तक नहीं पहुंच रही...
ये भी आवश्यक  नहीं...
राखी हर वर्ष ही बांधी जा सके...
 राखी चाहे एक बार या सौ बार बांधी गयी हो...
ये बंधन तो अटूट है...
उन सब के सुखद भविष्य की कामना के साथ...
पेश हैं आज के 5 लिंक....


मुझको नश्वर चीज़ों की दिल से कोई दरकार नहीं।
संबंधों की कीमत पर कोई सुविधा स्वीकार नहीं।
माँ के सारे गहने-कपड़े तुम भाभी को दे देना।
बाबूजी का जो कुछ है सब ख़ुशी – ख़ुशी तुम ले लेना।

इस का एक ही उपाय है हम भाववाद (आदर्शवाद, दिखावा) का त्याग करें। यथार्थ की जमीन पर आएँ। हम में बोध हो कि परिवार में सब समान हैं भाई-बहिन भी और स्त्री-पुरुष
भी। परिवार में भी और समाज में भी सभी एक दूसरे के लिए हैं, सब मिल कर किसी एक की आवश्यकता को पूरा कर सकते हैं।  यह हमारी आदत बने, व्यवहार में दिखाई दे, तब
किसी को किसी भी चीज का अभाव नहीं खल सकता, न भौतिक वस्तुओं का न ही प्यार और स्नेह का।
राखी के इस त्यौहार का उद्घोष "हम सब साथ साथ हैं" होना चाहिए।


इसी ऐतिहासिक घटना की कहानी के आधार पर बाद में किसी चित्रकार ने अपनी कल्पना के आधार पर राणा सांगा (Rana Sanga) का पेड़ के नीचे सोते हुए चित्र बनाया जिसमें
पेड़ की छाया दूर होने के बाद धुप से सांगा को बचाने हेतु फन उठाया हुआ एक सांप उन पर छाया कर रहा है|
---------



जल्दी ले जा डाकिए,ये राखी के तार |
गूँथ दिया मैंने अभी,इन धागों में प्यार |
बड़ी सजीली राखियाँ , बेचे नेट हज़ार |
रची रात भर जागकर ,है दिल से उपहार |


जमाना जो बदले बदल जाने देना
बस दोस्तों के दिल में बड़ा प्यार रखना ।
अहम् का वहम कभी छू भी ना पाये
मुझको सदा अपना तलबगार रखना ।

धन्यवाद...

5 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह
    लग रहा ये हिम्मती इक माँ का बेटा है।
    सर्प के फन के तले बेख़ौफ़ लेटा है ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपने आप में अद्भुत प्रस्तुति

    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...