पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 27 जुलाई 2015

कुछ भी, कहीं भी, कैसे भी...बन ही गई आज की नौवीं प्रस्तुति

सादर अभिवादन स्वीकारें...

कहीं किसी के स्टेटस में पढ़ी..ये ऐसा कुछ..


सुन दोस्त.....
इश्क कर ,
धोखा खा 
और 
शायर बन जा ....

देखिए आज की प्रस्तुति....


कितना भी दफन 
कर ले कोई जमीन 
के नीचे गहराई में 
बस मिट्टी को हाथों 
से खोदने में 
शर्माना नहीं चाहिये ।


हंसती हुई आँखों में जो प्यार का पहरा रहता है-
असल में उन आँखों के ज़ख्म गहरे होते है ||

जलती हुई लौ भी जो उजारा करे मजारों को-
सुना है उन मजारों को बड़ी तकलीफ होती है ||


लगातार छः ग़ज़लें
बहुत   तन्हा   हूँ   मैं  ये   वक्त  कह   गया   हमसे।
पाल    बैठा    बड़ी    उम्मीद     बेवफा    तुमसे ।।


कुछ भी, कहीं भी, कैसे भी
उड़ कर पहुँच जाती हो तुम !!
भूतनी! भूतनी !! भूतनी !!
चिढ़ती रहो ........
मेरी तो कविता बन गयी न !!


मुक्ति कोई क्षणिक बात नहीं है. 
वह एक जीवन अनुभव होती है 
और उसे बार–बार अनुभव करना पड़ता है.
जिन्हें मुक्त होने की इच्छा है 
या जो मुक्त होना चाहते है


आज्ञा दीजिये यशोदा को...
चलते-चलते ये गीत सुनिए....





















4 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर अंक । आभार यशोदा जी 'उलूक' के सूत्र 'किया कराया दिख जाता है
    बस देखने वाली आँखों को खोलना आना चाहिये' को आज के पाँच सूत्रों में स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गाना बहुत अच्छा लगा |उम्दा लिंक्स |

    उत्तर देंहटाएं
  3. धन्यवाद् .........इस फेवर के लिए !!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...